सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया | Supreme court judge selection process in hindi

सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया

भारत की न्याय व्यवस्था में सबसे शीर्ष पर सुप्रीम कोर्ट का स्थान है। Supreme court भारत में न्याय एवं संविधान के प्रश्न सम्बंधित सभी प्रकार के मामलों के लिए अंतिम न्यायालय के रूप में स्थापित है। संविधान के अनुच्छेद 32 के द्वारा देश के नागरिको के मौलिक अधिकारों की सुरक्षा करना भी सुप्रीम कोर्ट की जिम्मेदारी में सौंपा गया है। सुप्रीम कोर्ट का न्यायिक अधिकार क्षेत्र पूरे देश में आता है ऐसे में देश की न्यायिक व्यवस्था में इसका स्थान शीर्ष पर है। चूँकि सुप्रीम कोर्ट का हमारे देश में न्यायिक व्यवस्था में सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान है ऐसे में आपके मन में भी अक्सर यह सवाल उठता होगा की सुप्रीम कोर्ट के जज का चयन कैसे किया जाता है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया (Supreme court judge selection process in hindi) क्या है।

यह भी देखें :- कानूनी तरीके से अपना नाम कैसे बदलें

सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया

साथ ही आपको सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया सम्बंधित अन्य बिन्दुओ से भी अवगत कराया जायेगा।

क्या है सुप्रीम कोर्ट के जज बनने के लिए पात्रताएँ

Supreme court के जज की चयन प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्राप्त करने से पूर्व हमे यह ज्ञात होना आवश्यक है की सुप्रीम कोर्ट के जज बनने के लिए आवश्यक पात्रताएँ क्या-क्या है। सुप्रीम कोर्ट के जज बनने के लिए किसी भी नागरिक को निम्न पात्रताएँ पूरी करना आवश्यक है :-

  • वह भारत का नागरिक हो।
  • वह उच्च-न्यायालय या 2 या अधिक उच्च-न्यायालयों में लगातार कम से कम 5 वर्ष तक जज के रूप में कार्य कर चुका हो।
  • वह उच्च-न्यायालय या 2 या अधिक उच्च-न्यायालयों में कम से कम 10 वर्षो तक अधिवक्ता रह चुका हो।
  • राष्ट्रपति की राय में उसे प्रतिष्ठित विधिवेता होना आवश्यक है।

भारत के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति 

सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश का पद न्यायिक पद के आधार पर देश में सबसे शीर्ष पर होता है। भारत के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति संविधान के अनुच्छेद 124 में दूसरे सेक्शन के अंतर्गत की जाती है। भारत के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति सम्बंधित वर्णन निम्न प्रकार से है :-

  • सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट के सीनियर न्यायाधीशों में वरीयता के क्रम में की जाती है। सामान्य नियम के अनुसार सीनियर न्यायाधीशों में जो भी जज वरीयता के क्रम में वर्तमान न्यायाधीश के बाद आता है सामान्यता उसे ही अगला मुख्य न्यायधीश बनाया जाता है। नए जज की नियुक्ति एवं वर्तमान जज की सेवानिवृति के समय देश के क़ानून मंत्री एवं जस्टिस और कंपनी अफेयर्स की उपस्तिथि अनिवार्य मानी जाती है।
  • यदि सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश अपने पद की गरिमा बनाये रखने में असफल होते है तो इस स्थित में भी संविधान के अनुच्छेद 124 में दूसरे सेक्शन के तहत नए मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति का प्रावधान है।
  • मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति के पश्चात देश के जस्टिस अफेयर्स और कानून मंत्री इसका ब्यौरा प्रधानमंत्री एवं प्रधानमन्त्री देश के राष्ट्रपति के सामने सम्बंधित ब्यौरा रखते है।

सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया

वर्तमान में हमारे देश में सुप्रीम कोर्ट में कुल 34 जजों के नियुक्ति का प्रावधान है। Supreme court के जज का चयन निम्न प्रकार से किया जाता है।

  • सुप्रीम कोर्ट के जज के पद रिक्त होने पर मुख्य न्यायाधीश की सूचना के आधार पर सर्वप्रथम भारत के कानून मंत्रालय के द्वारा इस बाबत अधिसूचना जारी की जाती है।
  • सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया में सबसे अधिक महत्वपूर्ण रोल कॉलेजियम का रहता है जो की भारत के मुख्य न्यायाधीश एवं अन्य चार सीनियर जजों से मिलकर बना है। मुख्य न्यायाधीश की राय कॉलेजियम की राय पर आधारित होती है जिसमे की भावी मुख्य न्यायाधीश को भी शामिल किया जाता है। साथ ही जिस हाई-कोर्ट से सम्बंधित जज का चयन किया जाता है वहां के सीनियर मोस्ट जज का अनुमोदन भी आवश्यक होता है।
  • मुख्य न्यायाधीश द्वारा सुप्रीम कोर्ट के जज का चयन होने के पश्चात इस बाबत सूचना क़ानून मंत्रालय और न्याय विभाग में पहुँचाई जाती है जिसके पश्चात इसे पीएम को भेजा जाता है। तत्पश्चात प्रधानमन्त्री अपनी राय के साथ इस आशय से रिपोर्ट राष्ट्रपति तक पहुंचाते है।
  • जज का चयन हो जाने के पश्चात न्याय विभाग द्वारा इस सम्बन्ध में सूचना सम्बंधित जज को पहुँचाई जाती है जिसके पश्चात चयनित जज को सिविल सर्जन या जिला मेडिकल अफसर द्वारा जारी मेडिकल सर्टिफिकेट को जस्टिस डिपार्टमेंट को सौंपना होगा साथ ही चयन प्रक्रिया से जुड़े अन्य लोगों को भी यह प्रक्रिया फॉलो करनी होगी।
  • जज का चयन होने के पश्चात राष्ट्रपति द्वारा इस नियुक्ति पर हस्ताक्षर किये जाते है जिसके पश्चात देश के न्याय विभाग के सचिव द्वारा इस सम्बन्ध में भारत के राजपत्र के माध्यम से अधिसूचना जारी की है।

इन सभी प्रक्रियाओं के पूर्ण हो जाने के पश्चात Supreme court के जज की चयन प्रक्रिया पूर्ण हो जाती है।

सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया सम्बंधित प्रश्न (FAQ)

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति किस अनुच्छेद के तहत की जाती है ?

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति संविधान के अनुच्छेद 124 में दूसरे सेक्शन के अंतर्गत की जाती है।

सुप्रीम कोर्ट में कुल कितने न्यायाधीश हो सकते है ?

सुप्रीम कोर्ट में कुल 34 न्यायाधीश हो सकते है। समय -समय पर सरकार द्वारा आवश्यकतनुसार जजों की संख्या में वृद्धि की जाती है।

सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया क्या है ?

सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया सम्बंधित जानकारी के लिए ऊपर दिया गया आर्टिकल पढ़े। यहाँ आपको सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की गयी है।

भारत में न्याय हेतु सर्वोच्च न्यायालय कौन सा है ?

भारत में न्याय हेतु सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट है। यह नई-दिल्ली में स्थित है।

The post सुप्रीम कोर्ट के जज की चयन प्रक्रिया | Supreme court judge selection process in hindi appeared first on CRPF India.

You may like these posts

-->