Amazing Facts about Mount Everest in Hindi | Mount Everest के बारे में कुछ दिलचस्प बातें

Interesting Facts about Mount Everest in Hindi | Amazing Facts about Mount Everest in Hindi | Mount Everest के बारे में कुछ दिलचस्प बातें

Interesting Facts about Mount Everest in Hindi – माउंट एवरेस्ट के बारे में रोचक तथ्य

माउंट एवरेस्ट ऐसी चीज है जिस पर चढ़कर बहुत से आदमी फेम पा चुके है. एवेरेस्ट पर चढ़ाई कोई बच्चो का खेल थोड़े ही है. आज हम आपको दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट के बारे में कुछ बताने जा रहे है.

अब आपको Mount Everest के बारे में कुछ दिलचस्प बातें भी जान लेनी चाहिए, तो  शुरू करते है…

Interesting Facts about Mount Everest in Hindi

Mount Everest के बारे में ये फैक्ट्स जानकर दंग रह जाएंगे आप

-माउंट एवरेस्ट को वैसे तो दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत कहा जाता है. पर्वतों की ऊंचाई का आकलन समुद्र की सतह से उसकी ऊंचाई के आधार पर किया जाता है. लेकिन अगर किसी पर्वत के आधार से उसके शिखर तक की ऊंचाई मापी जाए तो Mount Everest सबसे ऊंचा पर्वत नहीं है. Base यानी आधार से चोटी तक की ऊंचाई के नजरिए से अमेरिका के हवाई का 'माउना किया' दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत है.  माउना किया की ऊंचाई 10 हज़ार 210 मीटर है.

- आपको जानकर हैरानी होगी कि हिमालय दुनिया की सबसे युवा पर्वत श्रृंखला है जिसकी ऊंचाई अब भी लगातार बढ़ रही है. वैज्ञानिकों के मुताबिक माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई हर साल 4 मिलीमीटर बढ़ जाती है. यानी 100 वर्षों में इसकी ऊंचाई 16 इंच तक बढ़ जाती है.

-8 हजार मीटर की ऊंचाई पर Mount Everest का Death Zone शुरू होता है क्योंकि खराब मौसम और ऑक्सीजन की कमी की वजह से सबसे ज्यादा मौतें यहीं होती हैं.

INTERESTING & AMAZING FACTS ABOUT MOUNT EVEREST IN HINDI

- एवरेस्ट Everest की चढ़ाई करने वालों को "Two o’Clock Rule" का पालन करना होता है. यानी चढ़ाई करने वालों को दोपहर 2 बजे तक माउंट एवरेस्ट पर पहुंचना होता है क्योंकि इसके बाद मौसम बदलना शुरू हो जाता है.

- तकनीक के विकास की वजह से एवरेस्ट पर चढ़ाई के दौरान होने वाली मौतों में हर साल 2 प्रतिशत की कमी आ रही है.

- आधिकारिक तौर पर माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई से पहले 10 हफ्तों की कठिन ट्रेनिंग लेनी होती है. इसके बाद ही एवरेस्ट पर जाने की इजाजत मिलती है.

माउंट एवरेस्ट के बारे में रोचक तथ्य – ALL INTERESTING & AMAZING FACTS ABOUT MOUNT EVEREST IN HINDI

1). नेपाल में स्थित माउंट एवरेस्ट दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत हैं। इसकी ऊंचाई समुंद्र तल से 8848 मीटर हैं।

2). राधानाथ सिकदर भारत के महान गणितज्ञ थे, जिन्होंने वर्ष 1852 में पहली बार दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत की ऊंचाई को मापा था.  लेकिन अंग्रेजों ने उन्हें इसका श्रेय नहीं दिया और इस पर्वत चोटी का नामकरण जॉर्ज एवरेस्ट के नाम पर कर दिया गया, जिन्होंने न तो माउंट एवरेस्ट कभी देखा था और न ही उन्हें इसकी कोई जानकारी थी. 

3). नेपाल और तिब्बत की सीमा पर मौजूद माउंट एवरेस्‍ट का नाम तिब्बती भाषा में चोमो-लुंगमा है. नेपाल के लोग इसे सागर-माथा के नाम से जानते हैं.  लेकिन पूरी दुनिया में ये माउंट एवरेस्‍ट के नाम से प्रसिद्ध है. हालांकि इसके नामकरण से पहले इसे पीक 15 कहा जाता था. 

4). एवरेस्ट की चोटी तक पहुंचने के लिए 18 अलग-अलग रास्ते मौजूद है।

5). अप्रैल 2015, में आए भूकंप के कारण माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 1” इंच कम हुई है।

6). अभी तक 19 भारतीयों ने एवरेस्ट पर चढ़ने में सफलता हासिल की है।

7). एवरेस्ट पर चढ़ने के लिए पहले लोगो को लगभग 15 लाख रूपए फीस देनी होती थी लेकिन 2015 मे नेपाली सरकार ने इसे कम करके लगभग 7 लाख कर दी।

8). एवरेस्ट की चोटी पर हवा की रफ्तार 321 किलोमीटर प्रतिघंटे तक पहुंच सकती है और यहां का तापमान -80° डिग्री फारेनहाइट तक जा सकता हैं।

9). एवरेस्ट पर 120 टन कचरा मौजूद है इसमें ऑक्सीजन टैंक, टेंट आदि सामान शामिल है। 2008 से 2011 तक एवरेस्ट पर चलाए सफाई अभियान में 400 किलोग्राम कचरा हटा दिया गया।

10). जॉर्डन रोमेरो दुनिया के सबसे छोटे और यूइचिरो मियूरा दुनिया के सबसे बड़े इंसान है जिन्होनें एवरेस्ट फतह की। इन्होनें ये कारनामा क्रमश: 13 और 80 साल की उम्र में किया।

11). एवरेस्ट पर चढ़ने का सबसे अच्छा समय है मार्च और मई के बीच.. क्योकिं इस समय ना तो बारिश ज्यादा होती है और बर्फ भी ताजा रहती है।

12). एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ने के लिए 2 महीने का समय लगता है और एक आदमी का खर्च लगभग 80 लाख रूपए आता है। इसमें नेपाल की हवाई यात्रा भी शामिल हैं।

13). आपको जानकर हैरानी होगी कि हिमालय दुनिया की सबसे युवा पर्वत श्रृंखला है जिसकी ऊंचाई अब भी लगातार बढ़ रही है.  वैज्ञानिकों के मुताबिक, माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई हर साल 4 मिलीमीटर बढ़ जाती है.  यानी 100 वर्षों में इसकी ऊंचाई 16 इंच तक बढ़ जाती है. 

15). वैसे तो एवरेस्ट की चोटी से नीचे उतरने के लिए 3 दिन का समय लगता है लेकिन 2011 में 2 नेपाली पैरागलाडिंग की सहायता से मात्र 48 मिनट में नीचे उतर आए थे।

16). आज तक लगभग 5000 लोग एवरेस्ट पर चढ़ने की कोशिश कर चुके है उनमें से करीब 280 लोग चढ़ते समय अपनी जान गवाँ चुके है। उनकी लाशें यही पड़ी हुई है कई बार तो लोग इनका सहारा लेकर ऊपर भी चढ़ते है।

17). पिछले 42 सालों में सिर्फ 2015 को छोड़कर कोई ऐसा साल नही गया जब किसी न किसी ने एवरेस्ट की चढ़ाई पूरी न की हो। 2015 में कोई अभियान इसलिए सफल नही हो पाया क्योकिं अप्रैल में नेपाल में 7.8 की 
तीव्रता का भूकंप आया था।

18). वैज्ञानिक सर्वेक्षणों में कहा जाता है कि एवरेस्ट की ऊंचाई प्रतिवर्ष 2 से॰मी॰ के हिसाब से बढ़ रही है।

19). एवरेस्ट पर सबसे ज्यादा मौते शिखर के करीब के हिस्से में होती हैं। इसे डेथ जोन भी कहा जाता हैं। लोग अक्सर यही जगह पर गलती करके अपनी जान गवां बैठते हैं।

20). माउंट एवरेस्‍ट को वैसे तो दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत कहा जाता है.  पर्वतों की ऊंचाई का आकलन समुद्र की सतह से उसकी ऊंचाई के आधार पर किया जाता है. लेकिन अगर किसी पर्वत के आधार से उसके शिखर तक की ऊंचाई मापी जाए तो माउंट एवरेस्‍ट सबसे ऊंचा पर्वत नहीं है.  Base यानी आधार से चोटी तक की ऊंचाई के नजरिए से अमेरिका के Hawai का 'माउना किया' दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत है.  माउना किया की ऊंचाई 10 हजार 210 मीटर है. 

21). एवरेस्ट शिखर की ओर जाने वाले मार्ग का दो-तिहाई भाग पृथ्वी के वायुमंडल के उस हिस्से में है, जहाँ ऑक्सीजन का स्तर कम है। ऊपरी ढलानों पर ऑक्सीजन की कमी, तेज़ हवाओं तथा अत्यधिक ठंड के कारण किसी प्रकार का वानस्पतिक या प्राणी जीवन सम्भव नहीं है।

22). संस्कृत में एवरेस्ट पर्वत को देवगिरी कहा जाता है। अपनी विशालता की वजह से इसे विश्व का मुकुट भी कहा जाता है।

23). एवरेस्ट 60 मिलियन साल पुराना है हर वक्त यहाँ बर्फबारी होते रहती है। एवरेस्ट पर्वत का गठन का कारण है, जब लोरेशिया का महाद्वीप टुटा तो वह एशिया के उत्तर दिशा के तरफ बढ़ते हुए उससे जा टकराया। पृथ्वी के भू- पटल की दो प्लेटों के बीच का समुद्र तल टूट गया और भारत उत्तरी किनारों में फ़ैल गया, इस तरह से माउंट एवरेस्ट और हिमालय पर्वत की उत्त्पति हुई।

24). एवरेस्ट पर्वत पर पहली चढाई एडमंड हिलारी और तेनजिंग नोरगे ने की थी। एडमंड हेलेरी जो की न्यूजीलैंड के थे और तेनजिंग नोरगे जो कि नेपाल के थे, उन्होंने 29 मई 1953 को एवरेस्ट पर फतह की थी। इनके बाद से 3448 व्यक्ति पर्वत पर चढ़ चुके है।

25). सबसे ज्यादा बार चढ़ाई करने का रिकॉर्ड नेपाल के अपा शेरपा जो प्रभु ताशी शेरपा के नाम से भी जाने जाते है, ने 11 मई 2011 से 19 मई 2013 के बीच 21 बार पर्वत पर चढ़ाई की।

26). एवरेस्ट पर चढ़ाई करने वाली पहली भारतीय महिला बछेंद्री पाल बनी।

Source : Zeemedia

आशा करता हूँ Interesting Facts about Mount Everest in Hindi | Amazing Facts about Mount Everest in Hindi | Mount Everest के बारे में कुछ दिलचस्प बातें आपको अच्छी लगी होगी। धन्यवाद।।

You may like these posts