वासुदेव बलवंत फडके जीवनी - Biography of Vasudev Balwant Phadke in Hind

वासुदेव बलवंत फडके जीवनी - Biography of Vasudev Balwant Phadke in Hindi : Freedom Fighter वासुदेव बलवंत फडके भारतीय सशस्त्र संघर्ष के पिता के बारे में कुछ रोचक तथ्य यहां दिए गए हैं।

वासुदेव बलवंत फडके जीवन घटनाक्रम | Freedom Fighter Vasudev Balwant Phadke

भारतीय सशस्त्र संघर्ष के पिता के बारे में कुछ रोचक तथ्य यहां दिए गए हैं, जिन्होंने 38 वर्ष की आयु में अंतिम सांस ली:

वासुदेव बलवंत फड़के का जन्म 4 नवंबर, 1845 को महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में स्थित पनवेल तालुका के शिरधों गांव में हुआ था।

एक बच्चे के रूप में, उन्होंने कुश्ती जैसे कौशल सीखना पसंद किया। आखिरकार, वह पुणे चले गए और 15 साल के लिए पुणे में सैन्य लेखा विभाग के साथ एक क्लर्क के रूप में नौकरी की

ब्रिटिश राज के दौरान, किसान समुदाय की दुर्दशा से फड़के हिल गए थे। उनका मानना ​​था कि स्वराज ही उनकी बीमारियों का एकमात्र इलाज है

वह राजनीतिक प्रचार के लिए दौरे पर जाने वाले पहले भारतीय थे

1875 में, उन्होंने अंग्रेजों को उखाड़ फेंकने के लिए महाराष्ट्र में कोली, भील ​​और धनगर समुदायों की मदद से रामोशी नामक एक क्रांतिकारी समूह का गठन किया।

20 फरवरी, 1879 की रात को फड़के ने अपने सहयोगियों विष्णु गद्रे, गोपाल साठे, गणेश देवधर और गोपाल हरि कर्वे के साथ लोनी के बाहर अपनी 200-मजबूत मिलिशिया घोषित की, जो पुणे से आठ मील उत्तर में थी। यह शायद भारत की पहली क्रांतिकारी सेना थी

अपने सशस्त्र संघर्ष के लिए धन इकट्ठा करने और अकाल से पीड़ित किसानों को प्रदान करने के लिए, फड़के और उनके लोगों ने अमीर अंग्रेजी व्यापारियों पर छापे मारे

फड़के ने सरकार की शोषणकारी आर्थिक नीतियों की निंदा करते हुए अपनी प्रसिद्ध घोषणा जारी की और मई, 1879 में उन्हें चेतावनी दी। घोषणा की प्रतियां राज्यपाल, कलेक्टरों और अन्य सरकारी अधिकारियों को पोस्ट की गईं, जिससे पूरे देश में सनसनी फैल गई।

फड़के तब प्रसिद्ध हुए जब उन्होंने अपने एक आश्चर्यजनक हमले के दौरान ब्रिटिश सैनिकों को पकड़कर कुछ दिनों के लिए पुणे शहर पर पूर्ण नियंत्रण कर लिया।

1860 में तीन समाज सुधारकों और क्रांतिकारियों, फड़के, लक्ष्मण नरहर इंदापुरकर और वामन प्रभाकर भावे ने पूना नेटिव इंस्टीट्यूशन का गठन किया, जिसे बाद में महाराष्ट्र एजुकेशन सोसाइटी के रूप में जाना जाने लगा।

बाद में, जब अंग्रेजों ने अपनी पकड़ मजबूत कर ली तो उन्हें महाराष्ट्र से भागने के लिए मजबूर होना पड़ा। वह आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले के एक ज्योतिर्लिंग श्री शैला मल्लिकार्जुन के मंदिर गए थे।

फड़के को 1879 में पकड़ लिया गया और उन्हें यमन के अदन की जेल में ले जाया गया, क्योंकि अंग्रेजों को उनकी गिरफ्तारी पर भारतीय जनता की प्रतिक्रिया का डर था।

फरवरी 1883 में, वह जेल के दरवाजे को अपने टिका से खींचकर जेल से भाग गया, लेकिन तुरंत फिर से गिरफ्तार कर लिया गया

वह भूख हड़ताल पर चले गए और 17 फरवरी को उनका निधन हो गया। वह 38 वर्ष के थे।

वासुदेव बलवंत फडके जीवनी - Biography of Vasudev Balwant Phadke in Hindi

वासुदेव बलवंत फडके (4 नवम्बर 1845 – 17 फ़रवरी 1883) भारत के स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारी थे जिन्हें आदि क्रांतिकारी कहा जाता है। वे ब्रिटिश काल में किसानों की दयनीय दशा को देखकर विचलित हो उठे थे। उनका दृढ विश्वास था कि 'स्वराज' ही इस रोग की दवा है। 

जिनका केवल नाम लेने से युवकों में राष्ट्रभक्ति जागृत हो जाती थी, ऐसे थे वासुदेव बलवंत फडके। वे भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के आद्य क्रांतिकारी थे। 

भारतीय सशस्त्र संघर्ष को जन्म देने वाले वासुदेव बलवंत फड़के, उन्होंने स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए सशस्त्र मार्ग का अनुसरण किया। अंग्रेजों के विरुद्ध विद्रोह करने के लिए लोगों को जागृत करने का कार्य वासुदेव बलवंत फडके ने किया।

महाराष्ट्र की कोळी, भील तथा धांगड जातियों को एकत्र कर उन्होने 'रामोशी' नाम का क्रान्तिकारी संगठन खड़ा किया। अपने इस मुक्ति संग्राम के लिए धन एकत्र करने के लिए उन्होने धनी अंग्रेज साहुकारों को लूटा। 

फडके को तब विशेष प्रसिद्धि मिली जब उन्होने पुणे नगर को कुछ दिनों के लिए अपने नियंत्रण में ले लिया था। २० जुलाई १८७९ को वे बीजापुर में पकड़ में आ गए। अभियोग चला कर उन्हें काले पानी का दंड दिया गया। अत्याचार से दुर्बल होकर एडन के कारागृह में उनका देहांत हो गया।

जन्म महाराष्ट्र के कोलाबा जिले के सिरधोन नमक गाँव में 4 नवम्बर ,सन 1845 में हुआ था पेश्वू के के ज़माने के प्रतिष्ठित परिवार की हालत धीरे धीरे डगमगा चुकी थी इसलिए डॉ० विल्सन को हाई स्कूल में दो कक्षाएं पास करने के बाद ही उनके पिता ने आगे पढने से इंकार कर दिया वह चाहते थे की वासुदेव किसी दुकान पर 10 रूपये महावर पर नौकरी कर ले लेकिन वासुदेव नहीं मने , और बोले-'अभी और पढूँगा' 

पिता से पढाई का खर्च न मिलने पर ,घर छोड़कर ,मुंबई चले गए जि० आई० पी० में 20 रूपये माहवार पर नौकरी कर ली इसके बाद ग्रांट मेडिकल कॉलेज और फिनेन केमिस्ट में नौकरी की नौकरी के दौरान ही उन्होंने शादी भी की ,पर 28 वर्ष तक पहुँचते ही उनकी पत्नी का देहांत हो गया. 

उन्होंने पहली पत्नी की मृत्यु के बाद दूसरी शादी की जहाँ पहली पत्नी साधारण थी,केवल गहने -कपड़ो की इच्छा तक सिमित वहीँ दूसरी पत्नी एक साधक की योग्य पत्नी थी , माँ की बीमारी ,मृत्यु और श्राद्ध --किसी भी समय छुट्टी न मिलने पर उन्हें अंग्रेजी शासन से घृणा हो गई 1857 के विद्रोह के समय वे केवल 12 साल के थे इस विद्रोह का बदला अंग्रेजो ने जिस प्रकार लिया था वह तब भी उनके दिलो दिमाग पर छाया हुआ था। 

सेंकडो लोगो को पेड़ पर लटका कर फांसिया दी गई ऐसी ऐसी यातनाये दी गई जिन्हें इतिहास में कभी लिखा नहीं जा सकेगा इन यातनाओ के विरोध का बीज उनके दिमाग में था ,वह धीरे धीरे पल्लवित होने लगा |

वे बिना छुट्टी के ही अपने घर चले गए, पर उस समय तक मां मृत्यु की गोद में जा चुकी थी। इसी वजह ने वासुदेव ने मन में अंग्रेजो के खिलाफ बगावत को जन्म दिया और उन्होंने नौकरी छोड़कर आदिवासी लोगों को अपने साथ मिलाकर एक संघठन का निर्माण किया। इस संघठन ने अंग्रजों से बगावत का बिगुल बजा दिया। 1879 में वासुदेव ने अपने संघठन को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए अंग्रेजों के ठिकानों पर डाके डालने शुरू किये। 

अब तक वासुदेव का प्रभाव महाराष्ट्र के 7 जिलों में फैल गया था और अंग्रेज अफसर वासुदेव के नाम से ही डरने लगे थे, इसलिए ब्रिटिश सरकार ने उनको जिंदा या मुर्दा पकड़ने के लिए 50 हजार रूपए के इनाम की घोषणा कर दी। 20 जुलाई 1879 में वासुदेव बीमारी की अवस्था में एक मंदिर में थे। उस समय ही उनको गिरफ्तार कर लिया गया और काला पानी की सजा देकर अंडमान को भेज दिया।

गोविन्द रानाडे का प्रभाव

1857 की क्रान्ति के दमन के बाद देश में धीरे-धीरे नई जागृति आई और विभिन्न क्षेत्रों में संगठन बनने लगे। इन्हीं में एक संस्था पूना की 'सार्वजनिक सभा' थी। इस सभा के तत्वावधान में हुई एक मीटिंग में 1870 ई. में महादेव गोविन्द रानाडे ने एक भाषण दिया। 

उन्होंने इस बात पर बल दिया कि अंग्रेज़ किस प्रकार भारत की आर्थिक लूट कर रहे हैं। इसका फड़के पर बड़ा प्रभाव पड़ा। वे नौकरी करते हुए भी छुट्टी के दिनों में गांव-गांव घूमकर लोगों में इस लूट के विरोध में प्रचार करते रहे।

माता की मृत्यु

1871 ई. में एक दिन सायंकाल वासुदेव बलवन्त फड़के कुछ गंभीर विचार में बैठे थे। तभी उनकी माताजी की तीव्र अस्वस्थता का तार उनको मिला। इसमें लिखा था कि 'वासु' (वासुदेव बलवन्त फड़के) तुम शीघ्र ही घर आ जाओ, नहीं तो माँ के दर्शन भी शायद न हो सकेंगे। 

इस वेदनापूर्ण तार को पढ़कर अतीत की स्मृतियाँ फ़ड़के के मानस पटल पर आ गयीं और तार लेकर वे अंग्रेज़ अधिकारी के पास अवकाश का प्रार्थना-पत्र देने के लिए गए। किन्तु अंग्रेज़ तो भारतीयों को अपमानित करने के लिए सतत प्रयासरत रहते थे। 

उस अंग्रेज़ अधिकारी ने अवकाश नहीं दिया, लेकिन वासुदेव बलवन्त फड़के दूसरे दिन अपने गांव चले आए। गांव आने पर वासुदेव पर वज्राघात हुआ। जब उन्होंने देखा कि उनका मुंह देखे बिना ही तड़पते हुए उनकी ममतामयी माँ चल बसी हैं। उन्होंने पांव छूकर रोते हुए माता से क्षमा मांगी, किन्तु अंग्रेज़ी शासन के दुव्यर्वहार से उनका हृदय द्रवित हो उठा।

वासुदेव बलवंत फडके मृत्यु

17 फरवरी 1883 के दिन अंडमान जेल में अपनी सजा को पूरी करते हुए ही, यह वीर सपूत वासुदेव बलवंत फड़के हमेशा के लिए अमर शहीद बन गए।

Source : Wkipedia, Indiatoday

यह भी देंखे :

अभयचरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद जीवनी

Wiki and Biography of Ritesh Agarwal A Self-made Young Entrepreneur

हलधर नाग : ढाबा में जूठन धोने से लेकर पद्मश्री तक.!

Maharishi Valmiki Biography "महर्षि वाल्मीकि का जीवन परिचय"

Albert Einstein Biography in hindi | अल्बर्ट आइंस्टीन की जीवनी

दोस्तों, आशा करता हूँ, आपको ‘वासुदेव बलवंत फडके जीवनी - Biography of Vasudev Balwant Phadke in Hind‘ पोस्ट रुचिकर लगी  होंगी. जानकारी पसंद आये तो आप इसे Like ज़रूर करें. और अपने Friends को Share भी करें. ‘Interesting Crocodile Facts For Kids’ जैसे अन्य रोचक तथ्य पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें.

नोट : अगर आपको "वासुदेव बलवंत फडके जीवनी - Biography of Vasudev Balwant Phadke in Hind" पोस्ट पसंद आयी है तो इसे ज्यादा से ज्यादा Share करे. 

You may like these posts

1 टिप्पणियाँ

  1. Sonia
    आपके द्वारा बताई गई लेटेस्ट जानकारी बहुत ही लाभदायक हैं। धन्यवाद दुनिया मे हुई नई जानकारियां हमने तक पहुंचने के लिए। सरकारी नौकरी पाने की के लिए आपका चैनल बहुत ही लाभदायक है ।
    Schemes 2020 जाने सभी योजनाओं को
-->