-->

World Environment Day 2021 essay, theme, slogan/quotes in hindi

What is World Environment Day | World Environment Day 2021 | The importance of celebrating World Environment Day | world environment day essay in hindi | Environment day speechworld environment day theme | World Environment Day Quotes | World Environment Day Slogan

पर्यावरण को सुरि‍क्षित करने के लिए प्रत्‍येक वर्ष 5 जून के दिन को विश्‍व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) के रूप में मनाया जाता है इस दिवस को मनाने को उदेश्य पर्यावरण को सुरक्षित और सरंक्षण करना है तो आइये जानते हैं विश्‍व पर्यावरण दिवस के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी – important Information about World Environment Day

जैसा कि हम जानते है पेडों के अधिक काटे जाने की वजह से पर्यावरण को काफी नुकसान होने लगा है इसकी वजह से पर्यावरण का संतुलन विगडता जा रहा है प्रदूषण की समस्‍या दिन प्रतिदिन बढती जा रही है इन सभी समस्‍या को देखते हुऐ संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations Organisation) द्वारा विश्‍व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरूआत की गई थी

विश्‍व पर्यावरण दिवस को मनाने की शुरूआत वर्ष 1973 से हुई सबसे पहली बार वर्ष 1972 संयुक्त राष्ट्र संघ ने स्वीडन में विश्व भर के देशों का पहला पर्यावरण सम्मेलन आयोजित किया और इस सम्‍मेेलन में लगभग 119 देशों ने भाग लिया इसके बाद इस सभा में संयुक्‍त राष्‍ट्र पर्यावरण कार्यक्रम का गठन हुआ और प्रति वर्ष 5 जून को पर्यावरण दिवस मनाने और नागरिकों को प्रदूषण की समस्‍या से अवगत कराने का निश्‍चय किया गया इसके बाद 19 नवंबर 1986 से पर्यावरण संरक्षण अधिनियम लागू हुआ

इस दिन लोगों को जागरूक करने के लिए काई प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं जैसे कि पेड लगाना, लोगों को इनकी महत्‍वता बताना आदि

विश्व पर्यावरण दिवस का इतिहास (World Environment Day History)

1974 से, विश्व पर्यावरण दिवस को प्रत्येक 5 जून को एक वार्षिक कार्यक्रम के रूप में मनाया जाने लगा, ताकि मानव जीवन में स्वस्थ और हरित पर्यावरण के महत्व को बढ़ाया जा सके, सरकार, संगठनों द्वारा कुछ सकारात्मक पर्यावरणीय क्रियाओं को लागू करके पर्यावरण के मुद्दों को हल किया जा सके.

वर्ष 1972 ने अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणीय राजनीति के विकास में एक महत्वपूर्ण मोड़ दिया: संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में बुलाई गई पर्यावरण संबंधी समस्याओं पर पहला बड़ा सम्मेलन, स्टॉकहोम (स्वीडन) में 5-16 जून तक आयोजित किया गया. यह मानव पर्यावरण पर सम्मेलन के रूप में भी जाना जाता है, या स्टॉकहोम सम्मेलन. इसका लक्ष्य मानव पर्यावरण को संरक्षित करने और बढ़ाने की चुनौती से निपटने के लिए एक बुनियादी सामान्य दृष्टिकोण बनाना था. बाद में उसी वर्ष, 15 दिसंबर को, महासभा ने एक रेसोल्यूशन के तहत 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में अपनाया.

इसके अलावा 15 दिसंबर को, महासभा ने पर्यावरण संबंधी मुद्दों पर विशेष एजेंसी, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) के निर्माण के लिए नेतृत्व करने के लिए एक और रेसोल्यूशन को अपनाया. वर्ष 1974 में पहली बार "केवल एक पृथ्वी" ("Only one Earth") के स्लोगन के साथ विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया.

विश्‍व पर्यावरण दिवस महत्व

पर्यावरण को सुधारने हेतु यह दिवस महत्वपूर्ण है जिसमें पूरा विश्व रास्ते में खड़ी चुनौतियों को हल करने का रास्ता निकालता हैं। लोगों में पर्यावरण जागरूकता को जगाने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा संचालित विश्व पर्यावरण दिवस दुनिया का सबसे बड़ा वार्षिक आयोजन है। इसका मुख्य उद्देश्य हमारी प्रकृति की रक्षा के लिए जागरूकता बढ़ाना और दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे विभिन्न पर्यावरणीय मुद्दों को देखना है।

विश्‍व पर्यावरण दिवस की थीम – World Environment Day Theme

विश्व पर्यावरण दिवस 2020 का थीम "जैव विविधता" ("Biodiversity")
विश्व पर्यावरण दिवस 2019 का थीम "वायु प्रदूषण" ("Air Pollution")2018 – “बीट प्लास्टिक पोल्यूशन”
2017 – “कनेक्टिंग पीपुल टू नेचर”
2016 – “दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए दौड़ में शामिल हों”।
2015 – “एक विश्व, एक पर्यावरण।”
2014 – “छोटे द्वीप विकसित राज्य होते है” या “एसआइडीएस” और “अपनी आवाज उठाओ, ना कि समुद्र स्तर।”
2013 – “सोचो, खाओ, बचाओ” और नारा था “अपने फूडप्रिंट को घटाओ।”
2012 – “हरित अर्थव्यवस्था: क्यो इसने आपको शामिल किया है?”
2011 – “जंगल: प्रकृति आपकी सेवा में।”
2010 – “बहुत सारी प्रजाति। एक ग्रह। एक भविष्य।”
2009 – “आपके ग्रह को आपकी जरुरत है- जलवायु परिवर्तन का विरोध करने के लिये एक होना।”
2008 – “CO2, आदत को लात मारो- एक निम्न कार्बन अर्थव्यवस्था की ओर।”
2007 – “बर्फ का पिघलना- एक गंभीर विषय है?”
2006 – “रेगिस्तान और मरुस्थलीकरण” और नारा था “शुष्क भूमि पर रेगिस्तान मत बनाओ।”
2005 – “हरित शहर” और नारा था “ग्रह के लिये योजना बनाये।”
2004 – “चाहते हैं! समुद्र और महासागर” और नारा था “मृत्यु या जीवित?”
2003 – “जल” और नारा था “2 बिलीयन लोग इसके लिये मर रहें हैं।”
2002 – “पृथ्वी को एक मौका दो।”
2001 – “जीवन की वर्ल्ड वाइड वेब।”
2000 – “पर्यावरण शताब्दी” और नारा था “काम करने का समय।”
1999 – “हमारी पृथ्वी- हमारा भविष्य” और नारा था “इसे बचायें।”
1998 – “पृथ्वी पर जीवन के लिये” और नारा था “अपने सागर को बचायें।”
1997 – “पृथ्वी पर जीवन के लिये।”
1996 – “हमारी पृथ्वी, हमारा आवास, हमारा घर।”
1995 – “हम लोग: वैश्विक पर्यावरण के लिये एक हो।”
1994 – “एक पृथ्वी एक परिवार।”
1993 – “गरीबी और पर्यावरण” और नारा था “दुष्चक्र को तोड़ो।”
1992 – “केवल एक पृथ्वी, ध्यान दें और बाँटें।”
1991 – “जलवायु परिवर्तन। वैश्विक सहयोग के लिये जरुरत।”
1990 – “बच्चे और पर्यावरण।”
1989 – “ग्लोबल वार्मिंग; ग्लोबल वार्मिंग।”
1988 – “जब लोग पर्यावरण को प्रथम स्थान पर रखेंगे, विकास अंत में आयेगा।”
1987 – “पर्यावरण और छत: एक छत से ज्यादा।”
1986 – “शांति के लिये एक पौधा।”
1985 – “युवा: जनसंख्या और पर्यावरण।”
1984 – “मरुस्थलीकरण।”
1983 – “खतरनाक गंदगी को निपटाना और प्रबंधन करना: एसिड की बारिश और ऊर्जा।”
1982 – “स्टॉकहोम (पर्यावरण चिंताओं का पुन:स्थापन) के 10 वर्ष बाद।”
1981 – “जमीन का पानी; मानव खाद्य श्रृंखला में जहरीला रसायन।”
1980 – “नये दशक के लिये एक नयी चुनौती: बिना विनाश के विकास।”
1979 – “हमारे बच्चों के लिये केवल एक भविष्य” और नारा था “बिना विनाश के विकास।”
1978 – “बिना विनाश के विकास।”
1977 – “ओजोन परत पर्यावरण चिंता; भूमि की हानि और मिट्टी का निम्निकरण।”
1976 – “जल: जीवन के लिये एक बड़ा स्रोत।”
1975 – “मानव समझौता।”
1974 – “ ’74’ के प्रदर्शन के दौरान केवल एक पृथ्वी।”
1973 – “केवल एक पृथ्वी।”

यह भी पढ़े :
H1B Visa क्या है? - H1B Visa के फायदे, योग्यता
बिल गेट्स की जीवनी | Bill Gates Biography in Hindi
सुभाष चंद्र बोस की जीवनी | Biography of Subhas Chandra Bose in Hindi
राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस: इतिहास, महत्व और रोचक तथ्य

विश्व पर्यावरण दिवस क्यों मनाया जाता है?

दुनिया भर में वनों की कटाई, बढ़ते ग्लोबल वार्मिंग, अपव्यय और भोजन, प्रदूषण इत्यादि जैसे पर्यावरणीय मुद्दों को संबोधित करना आवश्यक है. दुनिया भर में प्रभावशीलता लाने के लिए एक विशेष थीम और स्लोगन के साथ कई अभियान आयोजित भी इस दिन किए जाते हैं.

इस दिन को सफलतापूर्वक कार्बन तटस्थता प्राप्त करने, ग्रीनहाउस प्रभावों को कम करने, वन प्रबंधन पर ध्यान केंद्रित करने, खराब (degraded) भूमि पर रोपण, सौर स्रोतों के माध्यम से ऊर्जा उत्पादन, प्रवाल भित्तियों और मैन्ग्रोव को बढ़ावा देने, नई जल निकासी प्रणाली विकसित करने इत्यादि के लिए विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है.

एलेन मैकआर्थर फाउंडेशन (Ellen McArthur Foundation) द्वारा 2015 में किए गए एक अध्ययन में कहा गया है कि दुनिया में अब तक लगभग 6.3 बिलियन टन प्लास्टिक कचरा उत्पन्न हुआ है, और इसका लगभग 90% कम से कम 500 वर्षों तक विघटित नहीं होगा. वैज्ञानिकों के अनुसार मिट्टी, नल का पानी, बोतलबंद पानी, बीयर और यहां तक कि जिस हवा में हम सांस लेते हैं, उसमें माइक्रो-प्लास्टिक या छोटे टुकड़े पाए गए हैं.

विश्व पर्यावरण दिवस पर लें ये 6 संकल्प

संपूर्ण मानवता का अस्तित्व प्रकृति पर निर्भर है। इसलिए एक स्वस्थ एवं सुरक्षित प्रयायवरण के बिना मानव समाज की कल्पना अधूरी है। वन अधिकारी अरबिंद वर्मा ने बताया कि प्रकृति को बचाने के लिए आज हमसब को मिलकर कुछ संकल्प लेना होगा।
1. वर्ष में कम से कम एक पौधा अवश्य लगाएं और उसे बचाएं तथा पेड़-पौधों के संरक्षण में सहयोग करें
2. तालाब, नदी, पोखर को प्रदूषित नही करें, जल का दुरुपयोग नहीं करें तथा इस्तेमाल के बाद बंद करें
3. बिजली का अनावश्यक उपयोग नहीं करें, इस्तेमाल के बाद बल्ब, पंखे या अन्य उपकरणों को बंद रखें
4. कूड़ा-कचरा को डस्टबीन  में फेकें और दूसरों को इसके लिए प्रेरित करें, इससे प्रदूषण नहीं होगा
5. प्लास्टिक/पॉलिथिन का उपयोग बंद करें, उसके बदले कागज के बने झोले या थैले का उपयोग करें
6. पशु-पक्षियों के प्रति दया भाव रखें, नजदीकी कामों के लिए साइकिल का उपयोग करें

विश्व पर्यावरण दिवस मनाने के पीछे का उद्देश्य

  • पर्यावरण के मुद्दों के बारे में आम लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है.
  • विभिन्न समाज और समुदायों के आम लोगों को इवेंट में सक्रिय रूप से भाग लेने के साथ-साथ पर्यावरण सुरक्षा उपायों को विकसित करने में सक्रिय एजेंट बनने के लिए प्रोत्साहित करना.
  • सुरक्षित, स्वच्छ और अधिक समृद्ध भविष्य का आनंद लेने के लिए लोगों को अपने आस-पास के परिवेश को सुरक्षित और स्वच्छ बनाने के लिए प्रोत्साहित करना.
विश्व पर्यावरण दिवस पर, UN सरकारों, उद्योगों, समुदायों से आग्रह करने और लोगों को पर्यावरण के महत्व और इसको कैसे बचाया जा सकता है के बारे में एकजुट करने का प्रयास किया जा रहा है. ऐसे विकल्प तलाशना जो टिकाऊ और मददगार हों. इसी लिए एक वैश्विक मंच बनाया गया है जहाँ लोग सकारात्मक पर्यावरणीय क्रियाओं को एकत्र कर सकते हैं. हमें अभियानों में भाग लेना चाहिए और प्रदूषण के कारण होने वाली समस्याओं को मिटाने और पर्यावरण को स्वच्छ बनाने के लिए एकजुट होना चाहिए. हम सब मिलकर बदलाव ला सकते हैं.
Source: wikipedia, live hindustan

You may like these posts

Post a Comment