-->

Explained What is Malware in hindi | मालवेयर से बचाव

Malware in Hindi, What is Malware in Hindi, Meaning Of Malware In Hindi, Types Of Malware In Hindi, Anti Malware Meaning In Hindi. Malware Kya Hai, Meaning Of Malware In Hindi-Malware Ka Matlab

मालवेयर एक प्रकार का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो आपके कंप्यूटर के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इस सॉफ्टवेयर को हैकर्स कंप्यूटर से पर्सनल डाटा चोरी करने के लिए डिजाइन करते हैं।

हैकर्स की भाषा में मालवेयर टर्म का यूज वायरस, स्पाय वेयर और वार्म आदि के लिए किया जाता है। ये तीनों वायरस के ही रूप हैं।

मालवेयर आपकी निजी फाइलों तक पहुंचकर उन्हें दूसरी किसी डिवाइस में ट्रांसफर कर सकता है। इसके जरिए हैकर्स आपकी सूचनाएं, फोटो, वीडियो, बैंक या अकाउंट से जुड़ी जानकारी चुरा सकते हैं।

लेख-सूची

  • What Is Malware In Hindi
  • Malware Meaning in Hindi
  • Malware Kya Hai
  • Types of Malware in Hindi
  • Malware Infections
  • How Is Malware Delivered?
  • How to Remove Malware?
  • Anti Malware Meaning in Hindi
  • Difference between Antivirus and Anti-Malware In Hindi

Malware Meaning in Hindi

Meaning Of Malware In Hindi-Malware Ka Matlab – malicious software है।

Malicious और Software शब्दों का एक छोटा कॉम्बिनेशन, Malware, दुर्भावनापूर्ण इरादे से डिज़ाइन किए गए किसी भी प्रकार के सॉफ़्टवेयर के लिए एक ऑल-टाइम टर्म है।

मालवेयर अटैक के कारण

कंप्यूटर पर मालवेयर अटैक के कई कारण हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह इंटरनेट से की जाने वाली डाउनलोडिंग है। आप जितनी ज्यादा डाउनलोडिंग करेंगे उतना ही ज्यादा मालवेयर का खतरा होता है।

इंटरनेट से हम जो कंटेंट, पिक्चर, वीडियो या गाने आदि लेते है, उनके जरिए मालवेयर के वायरस बड़ी आसानी से हमारे सिस्टम तक आ जाते हैं।

कई बार कंप्यूटर में लगाई जाने वाली रिमूवेबल डिवाइस भी मालवेयर की वजह बन जाती है। यदि आपने ऐसी कोई पेन ड्राइव या मेमोरी कार्ड अपने सिस्टम में लगाया, जिसमें पहले से वायरस है, तो यह आपके सिस्टम के लिए खतरनाक हो सकता है।
Malware Kya Hai, Meaning Of Malware In Hindi

मालवेयर से बचाव के तरीके

  • जब आप गानें या पिक्चर आदि की डाउनलोडिंग केवल विश्वसनीय वेबसाइट से ही करें इसके लिए आपको कुछ पैसे देते पड़े तो इससे आपका ही फायदा होगा
  • अपने सिस्टम में एंटी वायरस को समय समय पर अपडेट करते रहें| जिससे आपको पता चल जाएगा की आपका  एंटी वायरस ठीक तरह से काम कर रही है या नही
  • आप अपने महत्वपूर्ण डाटा पर पासवर्ड लगाए क्योंकि आपने डाटा को कोई चुरा ना सके या हैक करना आसान न हो| और यह घ्यान रखे जब आप पासवर्ड लगाए तो अंक और अक्षर दोनों का इस्तेमाल करना जरूरी है|
  • आप अपने पीसी में फायरवॉल इंस्टॉल करें यह आपके कंप्यूटर और इंटरनेट के बीच सुरक्षा दीवार की तरह काम करता है| और इसे हमेशा on रखे
  • अगर आपके computer पर कोई नजर रख रहा है या आपके computer पर कुछ जरूरी डाटा रखा है तो किसी अनजान द्वारा भेजा गया E-mail को ना खोले
  • जब आप कोई भी सॉफ्टवेयर डाउनलोड करते है तो जानी मानी  वेबसाइट से ही करें
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की डाउनलोड करने से पहले अच्छे से चेक कर लें की वेबसाइट ओरिजिनल है या कोई फेक वेबसाइट है या वेबसाइट पॉपुलर है या नही
  • यदि आपके सिस्टम में एंटी मालवेयर या एंटी वायरस नहीं है तो इसे तुरंत इंस्टॉल कराएं।
  • मैलवेयर से बचने के लिए सुरक्षित या अच्छे ब्राउज़िंग जैसे की  गूगल क्रोम वेब ब्राउज़र  का उपयोग करना चाहिए
यह भी पढ़े :

Types of Malware in Hindi मालवेयर के प्रकार:

1) Computer worm:

Worms भी अन्य फ़ाइलों के आधार पर वायरस की तुलना में अधिक सक्रिय रूप से अपनी प्रतिकृति तैयार करते हैं और फैलते हैं। कंप्यूटर वार्म अन्य सिस्‍टम का एक्‍सेस प्राप्त करने के लिए रिमूवेबल मीडिया या नेटवर्क का उपयोग करते हैं और आम तौर पर इस कार्य में उनकी सहायता के लिए एक प्रोग्राम की आवश्यकता होती है। ई-मेल के माध्यम से फैलने वाले वार्म यूजर्स के ई-मेल प्रोग्राम का उपयोग करते हैं ताकि एड्रेस बुक के सभी कौन्‍टेक्‍ट को खुद को भेजा जा सके। वायरस की तरह, Worms सिस्टम को नुकसान पहुंचा सकते हैं और अक्सर कंप्यूटर पर गुप्त नियंत्रण हासिल करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। Worms को सबसे सामान्य प्रकार का malicious software माना जाता है।

2) Computer viruses:

वायरस ऐसे प्रोग्राम हैं जो स्वयं की प्रतियां बनाकर और फिर अन्य कंप्यूटर कार्यक्रमों में घुसपैठ करके अलग-अलग फैलने में सक्षम हैं। वायरस सबसे अच्छा ज्ञात और सबसे पुराना प्रकार का मैलवेयर है। वायरस प्रोग्राम शुरू होने के बाद एक वायरस गुणा करता है और फिर यह कंप्यूटर के कार्यों में हस्तक्षेप करता है, यूजर्स पर जासूसी करता है, डेटा को नष्ट करता है, या हार्डवेयर को नुकसान भी पहुंचाता है।

3) Trojan horse:

ट्रोजन हॉर्स एक प्रकार का मैलवेयर है, जो शुरू में एक उपयोगी और सुरक्षित एप्लिकेशन होने का दिखावा करता है, ताकि यह कंप्यूटर के सिस्टम को एक्‍सेस कर सके। यह उन कार्यों को करता है जो ज्यादातर यूजर्स से छिपे होते हैं। ट्रोजन हॉर्स कई हानिकारक क्रियाओं को अंजाम दे सकते हैं जैसे कि कंप्यूटर के डेटा ट्रैफ़िक की निगरानी करना। इनमें से कुछ क्रियाएं जानकारी या फ़ाइलों की प्रतिलिपि बनाने और उन्हें भेजने के साथ होती हैं, जबकि अन्य नए सॉफ़्टवेयर को बदलने या स्थापित करने के अलावा कंप्यूटर पर विशेष टास्‍क को एक्‍सेक्‍यूट करते हैं। ट्रोजन हॉर्स को रिमोटली एक बैकडोर फ़ंक्शन के माध्यम से कंट्रोल करना भी संभव है, जो अन्य यूजर्स को साइबरक्रिमिनल उद्देश्यों के लिए कंप्यूटर को हाईजैक करने का मौका प्रदान करता है।

4) Adware:

Adware शब्द को advertisement और software का संकुचन माना जाता है और यह प्रोग्राम में विज्ञापन डालकर ऑपरेट होता है। यह आमतौर पर मुफ्त सॉफ्टवेयर में शामिल होता है और ज्यादातर वैध होता है, लेकिन यह खतरनाक भी हो सकता है अगर यह पॉप-अप या नकली वेबसाइट दिखाता है, या सिस्टम पर या ब्राउज़र सेटिंग्स में बिना अनुमति के कोई भी परिवर्तन करता है।

5) Spyware:

इस प्रकार के मैलवेयर का उपयोग यूजर के डेटा को उजागर करने और इसे निर्माता या किसी थर्ड पार्टी को भेजने के लिए किया जाता है। पीसी में Spyware आने पर भी यूजर इस बात से पूरी तरह से अंजान होता है कि उनका व्यवहार रिकॉर्ड किया जा रहा है। स्पाइवेयर द्वारा प्राप्त जानकारी को ज्यादातर कमर्शियल उद्देश्यों के लिए विश्लेषण किया जाता है ताकि उदाहरण के लिए अनुकूलित विज्ञापन दिखाए जा सकें।

6) Ransomware:

Ransomware के इन शॉकिंग फैक्ट्स को कम मत समझे, वरना आप मुसिबत में आ सकते है. यह सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम तक पहुंच को रोककर या महत्वपूर्ण फाइलों को ब्लॉक करके स्केवेयर से एक कदम आगे निकल जाता है। ब्लॉक किए गए डेटा को वापस लेने के लिए यह प्रोग्राम फिरौती के भुगतान की मांग करता है।

7) Scareware:

यह मैलवेयर कंप्यूटर पर खोजे गए मैलवेयर के बारे में नकली चेतावनी प्रदर्शित करके यूजर्स को डराने और परेशान करने पर केंद्रित है। यदि आपके पीसी में एक पॉप-अप में शुल्क-आधारित सॉफ़्टवेयर का एक विज्ञापन दिखाई देता है, जो आपके पीसी के कथित मैलवेयर को हटाने में सक्षम होने का दावा करता हैं, तो इसे दुष्ट सेक्‍युरिटी सॉफ़्टवेयर या rogueware के रूप में जाना जाता है। यदि यूजर इस कथित उपयोगी एप्लिकेशन को खरीदता है और इसे इंस्टॉल करता है, तो मैलवेयर का एक बहुत कुछ आमतौर पर कंप्यूटर पर दिखाई देगा।

8) Backdoor:

Backdoor को trapdoor के रूप में भी जाना जाता है। यह एक स्वतंत्र प्रोग्राम के बजाय एक फंक्‍शन होता है। एक सॉफ्टवेयर का एक हिस्सा backdoor के रूप में जाना जाता है जब एक बाहरी यूजर कंप्यूटर के एक्‍सेस में सफल होता है। यह यूजर्स के ज्ञान के बिना होता है। अक्सर, रिमोर्ट एक्‍सेस का उपयोग सेवा-संबंधी हमलों को करने के लिए किया जाता है, जो तब होता है जब इंटरनेट सेवाएं पेरलाइज़्ड हो जाती हैं, या स्पैम ई-मेल भेजती हैं। ट्रोजन हॉर्स, वायरस, या वार्म द्वारा Backdoors इंस्‍टॉल किया जा सकता है।
Malware Infections

Malware Infections

मैलवेयर कई तरीकों से कंप्यूटर या अन्य डिवाइस को संक्रमित कर सकता है। यह आमतौर पर पूरी तरह से दुर्घटना से होता है, अक्सर ऐसे सॉफ़्टवेयर को डाउनलोड करने से होता है जिनके साथ दुर्भावनापूर्ण एप्लिकेशन होते हैं।

कुछ मैलवेयर आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम में सुरक्षा कमजोरियों का लाभ उठाकर आपके कंप्यूटर में आ सकते हैं। ब्राउज़रों के आउटडेटेड वर्शन, और अक्सर उनके ऐड-ऑन या प्लगइन्स भी आसान लक्ष्य होते हैं।

लेकिन अधिकांश समय मैलवेयर उन यूजर्स द्वारा इंस्टॉल किए जाते हैं (जैसे आप!) जो वे कर रहे हैं उसे अनदेखा कर रहे हैं और ऐसे प्रोग्राम को इंस्टॉल कर रहे हैं या Spam ई-मेल की लिंक पर क्लिक कर रहे हैं, जिसमें मैलवेयर सॉफ़्टवेयर शामिल हैं।

कई प्रोग्राम, मैलवेयर से पूर्ण टूलबार, डाउनलोड असिस्टेंट, सिस्टम और इंटरनेट ऑप्टिमाइज़र, बोगस एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर और अन्य टूल को डिफ़ॉल्ट रूप से इंस्‍टॉल करते हैं जब तक कि आप स्पष्ट रूप से उन्हें नहीं कहते।

मैलवेयर का एक और सामान्य स्रोत सॉफ्टवेयर डाउनलोड से है जो पहली बार सुरक्षित लगता है – जैसे कि एक साधारण इमेज, वीडियो, या ऑडियो फ़ाइल – लेकिन वास्तव में एक हानिकारक एक्सेक्यूटेबल फ़ाइल होती है जो मालिसियस प्रोग्राम को इंस्‍टॉल करती है।

How Is Malware Delivered? Malware in Hindi- मालवेयर कैसे आते है?

अतीत में, वर्ल्ड वाइड वेब के व्यापक प्रसार से पहले, मैलवेयर और वायरस को फ़्लॉपी डिस्क या सीडी रोम के माध्यम से मैन्युअली, फिजिकली वितरित होते थे।

कई मामलों में, मैलवेयर अभी भी एक एक्‍सटर्नल डिवाइस का उपयोग करके वितरित किया जाता है, हालांकि आजकल फ्लैश ड्राइव या यूएसबी स्टिक द्वारा वितरित किए जाने की सबसे अधिक संभावना है।

टार्गेट ऑर्गनाइज़ेशन के बाहर कार पार्कों में यूएसबी स्टिक छोड़े जाने के उदाहरण हैं, इस उम्मीद में कि कोई व्यक्ति जिज्ञासा से उठा ले और इसे उनके नेटवर्क से कनेक्‍ट कंप्यूटर में प्लग-इन करें।

हालाँकि, अब अधिक सामान्य मालवेयर है जिसे एक ईमेल अटैचमेंट के रूप में फ़िशिंग ईमेल में वितरित किया जाता है।

स्पैम ईमेल प्रयासों की गुणवत्ता में व्यापक रूप से भिन्नता है – मैलवेयर वितरित करने के कुछ प्रयासों में न्यूनतम प्रयास का उपयोग करने वाले हमलावर शामिल होंगे, शायद यहां तक ​​कि वे एक ईमेल भी भेजते हैं, जिसमें केवल अटैचमेंट होती है।

How to Remove Malware? Malware in Hindi – मैलवेयर कैसे निकालें?

Malware को ज्यादातर जबरन विज्ञापन (एडवेयर) से लाभ कमाने, ईमेल स्पैम या चाइल्ड पोर्नोग्राफी (ज़ोंबी कंप्यूटर) फैलाने, पैसा निकालने (रैंसमवेयर) या संवेदनशील जानकारी (स्पाईवेयर) चुराने के लिए विकसित किया जा रहा है।

ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) डिज़ाइन में मौजूद दोषों सहित, कई फैक्‍टर कंप्यूटरों को अधिक संवेदनशील बनाने में सक्षम हैं, जो यूजर्स को बहुत अधिक अनुमतियाँ देते हैं, एक ही OS पर चलने वाले नेटवर्क के सभी कंप्यूटर, या सिर्फ इसलिए कि एक ही विशिष्ट ऑपरेटिंग सिस्टम, जैसे कि विंडोज, पर रन हो रहे कंप्यूटर।

Malware से सबसे अच्छी सुरक्षा – चाहे वे बॉट्स, ब्राउज़र हाइजैकर्स, रैनसमवेयर, या कई अन्य दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर हो- सामान्य रूप से आपको ईमेल अटैचमेंट या लिंक को ओपन करने में सावधान रहने की सलाह दि जाती हैं, इसके साथ ही क्‍वालिटी वाले Antivirus Program इंस्‍टॉल करने चाहिए, Operating System और अन्य प्रोग्राम को हमेशा अपडेट करना चाहिए। अविश्वसनीय वेबसाइटों से दूर रहकर सर्फिंग करते समय सतर्क रहें।

मैलवेयर हटाने के तरीकों के बारे में बात करते हुए, प्रत्येक प्रकार के मैलवेयर का कंप्यूटर और डेटा को संक्रमित करने और नष्ट करने का अपना तरीका होता है और इसलिए प्रत्येक मैलवेयर प्रकार को एक अलग मैलवेयर रिमूव करने की मेथड की आवश्यकता होगी।

संदिग्ध लिंक से बचने के लिए, ईमेल या वेबसाइटों को पहले चेक करना हमेशा अच्छी ऑनलाइन आदतें माना जाता है, लेकिन हमलावर भी वैध वेबसाइटों से समझौता करने में सक्षम होते हैं।

Anti Malware Meaning in Hindi

Malware in Hindi – एंटी-मैलवेयर एक प्रकार का सॉफ्टवेयर है, जो किसी संक्रमित सिस्टम या नेटवर्क से मैलवेयर या जिसे दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर के रूप में भी जाना जाता है, को स्कैन करने, पहचानने और समाप्त करने के लिए विकसित किया जाता है।

एंटीमैलेरवेयर एक पर्सनल सिस्‍टम या संपूर्ण बिज़नेस नेटवर्क को मालिसियस संक्रमणों से सुरक्षित करता है जो विभिन्न प्रकार के मैलवेयर के कारण हो सकता है जिसमें viruses, computer worms, ransomware, rootkits, spyware, keylogger आदि शामिल हैं।

Antimalware को पर्सनल पीसी, एक गेटवे सर्वर या एक डेडिकेटेड नेटवर्क एप्लायंस पर भी तैनात किया जा सकता है। एक प्रभावी एंटीवायरल टूल में संपूर्ण सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एंटी-स्पाइवेयर और फ़िशिंग टूल जैसे कई पहलू शामिल होते हैं।

Difference between Antivirus and Anti-Malware In Hindi एंटीवायरस और एंटी-मैलवेयर के बीच क्या अंतर है?

वायरस बनाम मैलवेयर

इससे पहले कि हम इसका जवाब दे सकें, हमें पहले यह पता लगाने की जरूरत है कि वास्तव में, वायरस और मैलवेयर क्या हैं। एक वायरस कोड का एक टुकड़ा है जो आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाने के लिए खुद को कॉपी करने में सक्षम है, जिसमें आपके सिस्टम को दूषित करना या डेटा को नष्ट करना शामिल है।

दूसरी ओर, मैलवेयर एक कॉमन शब्द है जिसमें विभिन्न प्रकार के दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर्स आते है, जिसमें Trojans, spyware, worms, adware, ransomware और हाँ, viruses भी शामिल हैं। तो तर्क इस प्रकार है: सभी वायरस मैलवेयर हैं। सभी मैलवेयर वायरस नहीं हैं। अब समझ में आया?

एंटीवायरस सॉफ्टवेयर क्या हैं और वे कैसे काम करते हैं?

दुर्भाग्य से हम यहां रुक नहीं सकते क्योंकि यह उससे थोड़ा अधिक जटिल है। वायरस को विरासत का खतरा माना जाता है। इससे हमारा तात्पर्य है: वे कुछ समय के लिए आसपास रहे हैं और यह सब कुछ बदल नहीं गया है। वे आज के साइबर अपराधियों द्वारा बहुत बार उपयोग नहीं किए जाते हैं, यही कारण है कि कई एंटीवायरस कंपनियां “सिर्फ” वायरस से अधिक लड़ने के लिए विकसित हुई हैं। इसमें worms, keyloggers जैसे वेब थ्रेडस्, या रूटकिट्स जैसे को  छिपाने वाले मैलवेयर शामिल हो सकते हैं।

तो क्यों एंटीवायरस कंपनियां अभी भी खुद को एंटीवायरस कहती हैं?

चूंकि 90 के दशक में वायरस ने सुर्खियां बटोरीं, इसलिए सुरक्षा कंपनियों ने उनसे लड़ने के प्रयासों पर ध्यान केंद्रित किया। इस प्रकार एंटीवायरस शब्द का जन्म हुआ। यह सब मार्केटिंग के लिए किया जाता है। अधिकांश लोग कंप्यूटर वायरस और वे क्या करते हैं इस बात से परिचित हैं। बहुत सारे लोग नहीं जानते कि मालवेयर क्या है।

Event Bot Malware क्या है?

भारत की कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT) ने “EventBot” नामक एक नए मैलवेयर के खिलाफ चेतावनी जारी की है। CERT के अनुसार यह मैलवेयर एंड्राइड फोन उपयोगकर्ताओं से व्यक्तिगत वित्तीय जानकारी चुराता है।

मुख्य बिंदु

इवेंट बॉट मैलवेयर एक ट्रोजन है। यह गुप्त रूप से कंप्यूटर या फोन ऑपरेटिंग सिस्टम पर हमला करता है। वर्तमान में, यह मैलवेयर 200 से अधिक विभिन्न वित्तीय एप्लीकेशन को प्रभावित करने में सक्षम है।

वर्तमान परिदृश्य

सीईआरटी के अनुसार इस मैलवेयर ने वर्तमान में पेपाल, यूनीक्रिडिट, एचएसबीसी, कॉइनबेस, ट्रांसफर वायर आदि जैसे वित्तीय एप्लीकेशन पर हमला किया है।

CERT

CERT इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत संचालित होता है। यह भारत की नोडल एजेंसी है जो हैकिंग, साइबर सुरक्षा खतरों, फ़िशिंग के विरुद्ध कार्य करती है। अंतर्राष्ट्रीय उपायों के अलावा, CERT भारत के भीतर कई पहल लागू कर रहा है। इसमें मुख्य रूप से “साइबर स्वच्छ केंद्र” शामिल है।

साइबर स्‍वच्‍छता केंद्र

साइबर स्वच्छ केंद्र का लक्ष्य देश के भीतर बॉटनेट संक्रमण का पता लगाकर सुरक्षित साइबर स्पेस बनाना है। यह CERT द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 70 B में प्रावधान के अनुसार संचालित है।

You may like these posts

Post a Comment