-->

शहीद अब्दुल हमीद की जीवनी - Biography of Abdul Hameed in Hindi

शहीद अब्दुल हमीद का जीवन परिचय | Martyr Abdul Hameed Introduction

अब्दुल हमीद
पूरा नाम
वीर अब्दुल हमीद
जन्म
1 जुलाई, 1933
जन्म भूमि
धरमपुर गांव, ग़ाज़ीपुर ज़िला, उत्तर प्रदेश
शहादत
10 सितम्बर, 1965
स्थान
तरनतारन साहब ज़िला, पंजाब
अभिभावक
पिता- मोहम्मद उस्मान
सेना
भारतीय थल सेना
रैंक
कंपनी क्वाटरमास्टर हवलदार
यूनिट
4 ग्रेनेडियर
सेवा काल
1954–1965
युद्ध
भारत-पाकिस्तान युद्ध (1965)
सम्मान
महावीर चक्र, परमवीर चक्र
नागरिकता
भारतीय
अन्य जानकारी
28 जनवरी 2000 को भारतीय डाक विभाग द्वारा वीरता पुरस्कार विजेताओं के सम्मान में पांच डाक टिकटों के सेट में 3 रुपये का एक सचित्र डाक टिकट जारी किया गया। इस डाक टिकट पर रिकाईललेस राइफल से गोली चलाते हुए जीप पर सवार वीर अब्दुल हामिद का रेखा चित्र उदाहरण की तरह बना हुआ है।

अब्दुल हमीद का जन्म 1 जुलाई, 1933 को उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ीपुर ज़िले में स्थित धरमपुर नाम के छोटे से गांव में एक गरीब मुस्लिम परिवार में हुआ था. और उनके पिता का नाम मोहम्मद उस्मान था. उनके यहाँ परिवार की आजीविका को चलाने के लिए कपड़ों की सिलाई का काम होता था.

लेकिन अब्दुल हमीद का दिल इस सिलाई के काम में बिलकुल नहीं लगता था, उनका मन तो बस कुश्ती दंगल और दांव पेंचों में लगता था. क्युकी पहलवानी उनके खून में थी जो विरासत के रूप में मिली उनके पिता और नाना दोनों ही पहलवान थे. वीर हमीद शुरू से ही लाठी चलाना कुश्ती करना और बाढ़ में नदी को तैर कर पार करना, और सोते समय फौज और जंग के सपने देखना तथा अपनी गुलेल से पक्का निशाना लगाना उनकी खूबियों में था. और वो इन सभी चीजों में सबसे आगे रहते थे.
उनका एक गुण सबसे अच्छा था जोकि दूसरो की हर समय मदद करना. जरूरतमंद लोगो की सहायता करना. और अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठाना और उसे बर्दास्त ना करना. एसी ही घटना एक बार उनके गाँव में हुयी जब एक गरीब किसान की फसल को जबरजस्ती वहा के ज़मींदार के लगभग 50 गुंडे काट कर ले जाने के लिए आये तब हमीद को यह बात का पता चला और उन्हें यह बात बर्दास्त नहीं हुयी और उन 50 गुंडों से अकेले ही भीड़ गए. जिसके कारण उन सभी गुंडों को भागना पड़ा. और उस गरीब किसान की फसल बच गयी.

एक बार तो अपने प्राणों की बाजी लगा कर गाँव में आई भीषण बाढ़ में डूबती दो युवतियों की जान बचायी. और अपने साहस का परिचय दिया.

अब्दुल हमीद का बचपन

अब्दुल हमीद की बचपन से ही इच्छा वीर सिपाही बनने की थी। वह अपनी दादी से कहा करते थे कि- "मैं फौज में भर्ती होऊंगा" दादी जब कहती-- "पिता की सिलाई की मशीन चलाओ" तब वह कहते थे-"हम जाएब फौज में ! तोहरे रोकले ना रुकब हम , समझलू"

दादी को उनकी जिद के आगे झुकना पड़ता और कहना पड़ता-- "अच्छा-अच्छा झाइयां फौज में"। हमीद खुश हो जाते इस तरह अपने पिता मोहम्मद उस्ताद से भी फौज में भर्ती होने की जिद करते थे, और कपड़ा सीने की धंधे से इंकार कर देते।

अब्दुल हमीद सेना में भर्ती

21 वर्ष के अब्दुल हमीद जीवन यापन के लिए रेलवे में भर्ती होने के लिए गये परन्तु उनके संस्कार उन्हें प्रेरित कर रहे थे, सेना में भर्ती होकर देश सेवा के लिए। अतः उन्होंने एक सैनिक के रूप में 1954 में अपना कार्य प्रारम्भ किया। हमीद 27 दिसंबर, 1954 को ग्रेनेडियर्स इन्फैन्ट्री रेजिमेंट में शामिल किये गये थे। जम्मू काश्मीर में तैनात अब्दुल हमीद पाकिस्तान से आने वाले घुसपैठियों की खबर तो लेते हुए मजा चखाते रहते थे, ऐसे ही एक आतंकवादी डाकू इनायत अली को जब उन्होंने पकड़वाया तो प्रोत्साहन स्वरूप उनको प्रोन्नति देकर सेना में लांस नायक बना दिया गया। 1962 में जब चीन ने भारत की पीठ में छुरा भोंका तो अब्दुल हमीद उस समय नेफा में तैनात थे, उनको अपने अरमान पूरे करने का विशेष अवसर नहीं मिला। उनका अरमान था कोई विशेष पराक्रम दिखाते हुए शत्रु को मार गिराना।

वतन के लिए पत्नी को रोते हुए छोड़ा

1947 में अपनी मुंह के खाने के बाद पाकिस्तान नहीं सुधरा.
उसने 1965 में दोबारा से अपने नापाक कदमों के साथ अमृतसर की ओर कदम बढ़ाने शुरु कर दिए थे. लगभग युद्ध जैसे हालात थे. चूंकि, हमीद परिवार के साथ छुट्टी मना रहे थे, इसलिए तत्काल उन्हें सेना में लौटने का संदेश भेजा गया. एक झटके में उन्होंने अपना सामान पैक करना शुरु कर दिया. वह अपना बिस्तरबंद बांध ही रहे थे कि उसकी रस्सी टूट गई.

पत्नी रसूलन के हिसाब से यह एक अपशगुन था. वह हमीद के सामने न जाने की जिद करने लगी. वह नहीं माने तो उन्होंने फूट-फूटकर रोकर कमजोर करने की कोशिश शुरु कर दी. इस पर हमीद ने मुस्कुराते हुए कहा, मेरे लिए देश सबसे पहले है. मुझे जाना ही होगा.

यह कहते हुए वह जैसे ही घर से निकलकर कुछ दूरी तक पहुंचे उनकी साइकिल की चैन टूट गई. ऐसे में उन्होंने पैदल ही स्टेशन की ओर बढ़ना शुरु कर दिया. वह जब तक स्टेशन पहुंचते उनकी ट्रेन छूट चुकी थी.

सुबह से उनके साथ कुछ भी ठीक नहीं हुआ था. साथियों ने फिर से उन्हें न जाने की सलाह दी, पर वह कहां किसी की मानने वाले थे. उन्होंने एक बार फिर से मुस्कुराते हुए सभी को गले लगाया और विदा हो गए.

1965 का भारत-पाकिस्तान युद्ध

8  सितम्बर 1965 की रात में, पाकिस्तान द्वारा भारत पर हमला करने पर, उस हमले का जवाव देने के लिए भारतीय सेना के जवान उनका मुकाबला करने को खड़े हो गए। वीर अब्दुल हमीद पंजाब के तरन तारन जिले के खेमकरण सेक्टर में सेना की अग्रिम पंक्ति में तैनात थे। पाकिस्तान ने उस समय के अपराजेय माने जाने वाले "अमेरिकन पैटन टैंकों" के के साथ, "खेम करन" सेक्टर के "असल उताड़" गाँव पर हमला कर दिया।

भारतीय सैनिकों के पास न तो टैंक थे और नहीं बड़े हथियार लेकिन उनके पास था भारत माता की रक्षा के लिए लड़ते हुए मर जाने का हौसला। भारतीय सैनिक अपनी साधारण "थ्री नॉट थ्री रायफल" और एल.एम्.जी. के साथ पैटन टैंकों का सामना करने लगे। हवलदार वीर अब्दुल हमीद के पास "गन माउनटेड जीप" थी जो पैटन टैंकों के सामने मात्र एक खिलौने के सामान थी।

वीर अब्दुल हमीद ने अपनी जीप में बैठ कर अपनी गन से पैटन टैंकों के कमजोर अंगों पर एकदम सटीक निशाना लगाकर एक -एक कर धवस्त करना प्रारम्भ कर दिया। उनको ऐसा करते देख अन्य सैनकों का भी हौसला बढ़ गया और देखते ही देखते पाकिस्तान फ़ौज में भगदड़ मच गई। वीर अब्दुल हमीद ने अपनी "गन माउनटेड जीप" से सात पाकिस्तानी पैटन टैंकों को नष्ट किया था।

देखते ही देखते भारत का "असल उताड़" गाँव "पाकिस्तानी पैटन टैंकों" की कब्रगाह बन गया। लेकिन भागते हुए पाकिस्तानियों का पीछा करते "वीर अब्दुल हमीद" की जीप पर एक गोला गिर जाने से वे बुरी तरह से घायल हो गए और अगले दिन ९ सितम्बर को उनका स्वर्गवास हो गया लेकिन उनके स्वर्ग सिधारने की आधिकारिक घोषणा १० सितम्बर को की गई थी।

अब्दुल हमीद की शहादत पर नमन

32 वर्ष की आयु में ही अपने प्राणों को देश पर न्यौछावर करने वाले इस वीर को उसकी शहादत पर नमन किया जाता है। उन्होंने अपनी अद्भुत वीरता से पाकिस्तानी शत्रुओं के खतरनाक, कुत्सित इरादों को तो ध्वस्त करते हुए अपना नाम इतिहास में सदा के लिए स्वर्णाक्षरों में अंकित कराया साथ ही एक सन्देश भी दिया कि केवल साधनों के बलबूते युद्ध नहीं जीता जाता। अपने भाई से किया वायदा उन्होंने पूर्ण किया और मरणोपरांत उनको सबसे बड़े सैनिक सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया, जो उनकी पत्नी श्रीमती रसूली बीबी ने प्राप्त किया। इसके अतिरिक्त भी उनको समर सेवा पदक, सैन्य सेवा पदक और रक्षा पदक प्रदान किये गए।

अब्दुल हमीद सम्मान और पुरस्कार

28 जनवरी, 2000 को भारतीय डाक विभाग द्वारा वीरता पुरस्कार विजेताओं के सम्मान में पांच डाक टिकटों के सेट में 3 रुपये का एक सचित्र डाक टिकट जारी किया गया। इस डाक टिकट पर रिकाईललेस राइफल से गोली चलाते हुए जीप पर सवार वीर अब्दुल हामिद का रेखा चित्र उदाहरण की तरह बना हुआ है। चौथी ग्रेनेडियर्स ने अब्दुल हमीद की स्मृति में उनकी क़ब्र पर एक समाधि का निर्माण किया है। हर साल उनकी शहादत के दिन यहां पर मेले का आयोजन किया जाता है। उत्तर निवासी उनके नाम से गांव में एक डिस्पेंसरी, पुस्तकालय और स्कूल चलाते हैं। सैन्य डाक सेवा ने 10 सितंबर, 1979 को उनके सम्मान में एक विशेष आवरण जारी किया है।

आपको ये पोस्ट पसंद आ सकती हैं

टिप्पणी पोस्ट करें