-->

सनातन धर्म और सनातन जीवन सबसे श्रेष्ठ

अगर आप प्रकृति का सम्मान नहीं करेंगे तो, प्रकृति आपको नष्ट कर देगी...सनातन धर्म और सनातन जीवन पद्धति ही दुनिया को बचा सकती है। सनातन जीवन की ओर लोटिये दुनिया प्रकृति और परिवार सब सुरक्षित रहेंगे।

बीमारी का नाम रेबीज 
पहचान जानवर जैसा व्यवहार
एक बार हो जाने पर 100% मौत

वायरस का नाम: *अबूला*
पहचान: *कमज़ोरी और बुख़ार*
मौत होने की संभावना: *90%*

वायरस का नाम: *Marburg मारबर्ग*
पहचान: *आंतों की प्रॉब्लम की वजह से, 10 दिन में मौत।*
मौत होने की संभावना: *88%*

वायरस का नाम: *निपाह*
पहचान: *मानसिक उलझन के बाद मौत*
मौत होने की संभावना: *75%*

वायरस का नाम: *क्रीमियन कांगो*
पहचान: *नाक और मुंह का नीला होना और ख़ून बहना*
मौत होने की संभावना: *40%*

वायरस का नाम: *सार्स*
पहचान: *सांस मुश्किल से आता है।*
मौत होने की संभावना: *36%*

वायरस का नाम: *ज़ीका*
पहचान: *जोड़ों में दर्द और त्वचा पर लाल चकत्ते होना*
मौत होने की संभावना: *20%*

वायरस का नाम: *एंफ्लुएंज़ा*
पहचान: *गले में जलन व दर्द*
मौत होने की संभावना: *13%*

वायरस का नाम: *कोरोना*
पहचान: *सांस की नाली में इंफेक्शन*
मौत होने की संभावना: *2%*

क्या आप जानते हैं *कोरोना वायरस* से चीन में इन आख़िरी ढ़ाई महीनों में 75 हज़ार से ज़्यादा लोग इंफेक्टेड हुए जिनमें से 2200 लोग ही मरे। ?

क्या आप यह भी जानते हैं कि अमेरिका में इन आख़िरी 4 महीनों में एंफ्लुएंज़ा से 22 मिलियन से ज़्यादा लोग इंफेक्टेड हुए और 16 हज़ार से अधिक लोगों की मौत हुई।??

*तो कोरोना, एंफ्लुएंज़ा से ज़्यादा डरावना कैसे हो गया। ?!*

इसे कहते हैं मीडिया की पावर और उस पर भरोसा

और इसे कहते हैं सारी दुनिया की जनता को मीडिया के हव्वे में क़ैद करना।

इंटरनेट पर एक सर्च में और ज़्यादा जानकारी जुटा सकते हैं।

#सॉफ्ट_वार
#मीडिया_वार

वायरस संबंधित मामले एवं उनसे प्रभावित देश

एचआईवी - कोंगो 
नीपाह - मलेशिया
इबोला - सूडान
बर्डफ्लू - होंन्ग कौंन्ग
डैंन्गू - मनीला
कोरोना - चीन

भारत में लाखों लोग एक साथ शामिल होते हैं- 
कुंभ मेले में
पुष्कर मेले में
वैष्णो देवी धाम
स्वर्ण मंदिर
जगन्नाथ रथयात्रा
तिरुपति
शबरीमाल
बद्रीनाथ
केदारनाथ
रामेश्वरम
गंगासागर
गंगा स्नान
दुर्गा पूजा
कावर यात्रा
नवरात्रि
चारधाम
आस्था विनायक
सिद्धि विनायक
12 ज्योतिर्लिंग

हजारों त्यौहारों, मेलों और यात्राओं में

एक नदी
एक जगह
और लाखों लोग एक साथ रहते हैं
और खाते हैं
और पवित्र स्नान करते हैं
और उसी समय वॉशरूम का उपयोग करते हैं।

एक भी वायरस नहीं फैला।
टाइफाइड या ई.कोली महामारी या कोई हैजा का प्रकोप नहीं।

यह है हिन्दुस्तान! अतुल्य भारत!

कुछ देशों के अजीब खाने की आदतों को रोका जाना चाहिए

गर्व है कि हम प्रकृति पूजक, प्रकृति प्रेमी, भारतीय संस्कृति और पुण्य भूमि में जन्म लिए है...

आपको ये पोस्ट पसंद आ सकती हैं

टिप्पणी पोस्ट करें