-->

लेखक अमिताव घोष की जीवनी | Biography of Amitav Ghosh in Hindi

लेखक अमिताव घोष का जीवन परिचय

नाम : अमितव घोष
जन्म : 11 जुलाई 1956, कलकत्ता
पिता : लेफ्टिनेंट कर्नल शैलेन्द्र चंद्र घोष
पत्नी : डेबोरा बेकर
दो बच्चे : लीला और नयन 

अमिताव घोष का प्रारम्भिक जीवन :

प्रसिद्ध भारतीय अंग्रेजी लेखक अमिताव घोष का जन्म वर्ष 1956 में कलकत्ता में हुआ था। अमिताव घोष के पिता सेना में लेफ्टिनेंट-कर्नल थे, जिसकी वजह से, उन्हें दुनिया के विभिन्न हिस्सों की यात्रा करनी पड़ती थी। इस प्रकार अमिताव घोष बांग्लादेश, श्रीलंका, ईरान, मिस्र, भारत और यूनाइटेड किंगडम में पले बढ़े और वहीं से शिक्षा प्राप्त की। अमिताव ने दून स्कूल, देहरादून से अपनी प्रारम्भिक शिक्षा प्राप्त की थी और बाद में उच्च शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया। अमिताव घोष ने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से इतिहास में अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद अमिताव ने दिल्ली विश्वविद्यालय से ही समाजशास्त्र में परास्नातक किया। अमिताव ने अपनी मास्टर्स ऑफ आर्ट्स की डिग्री (एम.ए.) को पूरा करने के बाद, इंस्टीट्यूट बोरगुइबा देश लैंग्यूस विवानेंट्स ट्यूनिस, ट्यूनीशिया से अरबी में डिप्लोमा प्राप्त किया। फिर अमिताव घोष ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी गए, जहाँ उन्होंने सामाजिक मानविकी में डिप्लोमा हासिल किया और वर्ष 1982 में उसी विषय में डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त की।

घोष न्यूयॉर्क में अपनी पत्नी, डेबोरा बेकर के साथ रहते हैं, लॉरा राइडिंग जीवनी इन एक्स्ट्रेमिस: द लाइफ ऑफ लॉरा राइडिंग (1993) और लिटिल, ब्राउन एंड कंपनी के एक वरिष्ठ संपादक के लेखक। उनके दो बच्चे, लीला और नयन हैं। वह सेंटर फॉर स्टडीज इन सोशल साइंसेज, कलकत्ता और त्रिवेन्द्रम में सेंटर फॉर डेवलपमेंट स्टडीज में एक साथी रहे हैं। 1999 में, घोष तुलनात्मक साहित्य में विशिष्ट प्रोफेसर के रूप में न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के क्वींस कॉलेज में संकाय में शामिल हो गए। वह 2005 से हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में भी एक अतिथि प्रोफेसर रहे हैं। घोष बाद में भारत लौटे, आईबीएस त्रयी पर काम करना शुरू किया जिसमें सागर ऑफ पॉपपीज़ (2008), स्मोक नदी (2011), और बाढ़ की आग (2015)।

अमिताव घोष एक लेखक

अमिताव घोष एक बहुमुखी लेखक हैं और इन्होंने अपने उपन्यासों के लिए कई साहित्यिक पुरस्कार भी प्राप्त किए हैं। अमिताव घोष की पहली उपन्यास, ‘द सर्किल ऑफ रीजन’ ने फ्रांस के शीर्ष साहित्यिक पुरस्कारों में से एक प्रिक्स मेडिसिस एट्रेंजेर पुरस्कार को जीतने में सफल हुआ है। अमिताव घोष के दूसरे उपन्यास ‘दि शैडो लाइन्स’ को वर्ष 1990 में भारत का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार, साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। उसी किताब के लिए उन्हें कलकत्ता में अनंदा पुरस्कार दिया गया था। अमिताव घोष की किताब ‘कलकत्ता क्रोमोजोम’ को वर्ष 1997 में आर्थर सी.क्लार्क पुरस्कार मिला था। अमिताव घोष के उपन्यास ‘ग्लास पैलेस’ ने वर्ष 2001 में फ्रैंकफर्ट इंटरनेशनल ई-बुक अवॉर्ड में भव्य पुरस्कार जीता था। अमिताव घोष ने एक और उपलब्धि हासिल की, जब उन्होंने केन्योन रिव्यू में प्रकाशित अपने एक निबंध के लिए वर्ष 1999 में एक अग्रणी साहित्यिक पुरुस्कार ‘पुस्कार्ट प्राइज’ जीता था। अमिताव घोष की किताब ‘इन एन एंटीक लैंड’ को वर्ष 1993 में उल्लेखनीय पत्रिका न्यूयॉर्क टाइम्स द्वारा सम्मानित किया गया था। ‘हंग्री टाइड’ उनकी हाल ही में प्रकाशित पुस्तक है।

उपन्यास के अलावा, अमिताव घोषने कल्पनारहित लेखन भी किया है। अमिताव घोष के प्रमुख कल्पना रहित लेखन में भारत की परमाणु नीति पर एक पुस्तक ‘काउंट डाउन’, ‘इमाम एंड द इंडियन’, उपन्यास का इतिहास जैसे विभिन्न विषयों पर निबंध संग्रह, इजिप्ट कल्चरएंड लिटरेचर और डांसिंग इन कंबोडिया तथा एट लार्ज इन बर्मा शामिल हैं। अमिताव घोष को भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया है। वर्तमान में अमिताव घोष न्यूयॉर्क में अपनी पत्नी डेबोराह बाकेर के साथ रह रहे हैं, जो एक चरमपंथी लेखिका हैं। वह द् लाइफ ऑफ लौरा राइडिंग और लिटिल ब्राउन एंड कंपनी की एक वरिष्ठ संपादक के रूप में कार्यरत हैं। अमिताव घोष न्यूयॉर्क के सिटी यूनिवर्सिटी के क्वींस कॉलेज में तुलनात्मक साहित्य विभाग के एक प्रतिष्ठित प्रोफेसर के रूप में शामिल हुए। वर्ष 1995 से अमिताव घोष हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के अंग्रेजी विभाग में विजिटिंग प्रोफेसर हैं।

उन्होंने अक्सर अपने युवाओं में यात्रा की, पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश), श्रीलंका, ईरान और भारत में रह रहे थे। घोष ने दिल्ली विश्वविद्यालय में भाग लिया और अपना बीए प्राप्त किया। 1976 में इतिहास में सम्मान और 1978 में समाजशास्त्र में एमए किया । 1978 में, उन्होंने सामाजिक मानव विज्ञान में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में अध्ययन शुरू किया। ऑक्सफोर्ड में रहते हुए, घोष ने बारहवीं सदी के मिस्र से दस्तावेजों के अभिलेखागार का अध्ययन किया और उन्हें छात्रवृत्ति दी गई जिसने उन्हें 1980 में अपने शोध को आगे बढ़ाने के लिए एक छोटे मिस्र के गांव की यात्रा करने की अनुमति दी। यह गांव नाइल नदी के डेल्टा में स्थित था और घोष फलाहीन, या मिस्र के किसानों में रहते थे। उन्होंने ऑक्सफोर्ड से पीएचडी कमाई की उपाधि प्राप्त की। 1982 में सामाजिक मानव विज्ञान में। 1983 से 1987 तक, घोष ने दिल्ली विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र विभाग में काम किया।

1997 में दी कलकत्ता क्रोमोजोम को आर्थर सी. क्लार्क अवार्ड और दी ग्लास पैलेस को 2001 में फ़्रंकफ़र्ट बुक फेयर का इंटरनेशनल ई-बुक अवार्ड भी मिला।

फिर जनवरी 2005 में उनकी किताब दी हंग्री टाइड को प्रसिद्द भारतीय अवार्ड क्रॉसवर्ड बुक प्राइज दिया गया। उनके उपन्यास, सी ऑफ़ पॉपिस को 2008 में मैन बुकर प्राइज के लिए नामांकित भी किया गया था और उनके इसी उपन्यास को क्रॉसवर्ड बुक प्राइज और इंडिया प्लाजा गोल्डन क्विल अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है।

अमिताव घोष के कार्यो का 20 से भी ज्यादा भाषो में अनुवादन किया गया है और साथ ही उहोने लोकार्नो फिल्म फेस्टिवल (स्विट्ज़रलैंड) और वेनिस फिल्म फेस्टिवल (2001) का जूरी बने रहते हुए भी सेवा की है। अमिताव घोष के निबंधो को दी न्यू यॉर्कर, दी न्यू रिपब्लिक और दी न्यू यॉर्क टाइम्स में भी प्रकाशित किया गया है। साथ ही उनके निबंधो को पेंगुइन इंडिया और हौगटन मिफ्फलिन USA ने भी प्रकाशित किया है।

भारत और USA की बहुत से बहुप्रतिष्ठित यूनिवर्सिटीयो में भी उन्होंने पढाया है, जिनमे दिल्ली यूनिवर्सिटी, कंबोडिया, क्वीन्स कॉलेज और हार्वर्ड शामिल है। इसके बाद 2010 में क्वीन्स कॉलेज, न्यूयॉर्क और सोर्बोंने ने अमिताव घोष को डॉक्टरेट की उपाधि देकर सम्मानित किया था।

2010 में वे मार्गरेट अट्वूड के साथ डैन डेविड अवार्ड भी जीत चुके है। 2011 में उन्हें ब्लू मेट्रोपोलिस के इंटरनेशनल ग्रैंड प्रिक्स अवार्ड से नवाजा गया था।

अमिताव घोष अवार्ड – Amitav Ghosh awards

उनकी किताब दी सर्किल ऑफ़ रीज़न ने फ्रांस के मुख्य साहित्यिक अवार्ड प्रिक्स मेडिसिस अवार्ड जीता है। इसके बाद दी शैडो लाइन्स ने साहित्य अकादमी अवार्ड और अनंदा पुरस्कार भी जीता है। उनकी एक और किताब दी कलकत्ता क्रोमोजोम ने 1997 आर्थर सी. क्लार्क अवार्ड जीता था। उनके उपन्यास, सी ऑफ़ पॉपिस को 2008 के मैन बुकर प्राइज के लिए नामनिर्देशित भी किया गया था।

2009 उनकी यही किताब वोडाफोन क्रॉसवर्ड बुक अवार्ड की सह विजेता बन चुकी है और 2010 में भी डैन डेविड प्राइज की सह विजेता बन चुकी है। उनकी एक और प्रसिद्द किताब रिवर ऑफ़ स्मोक को 2011 के मैन एशियन लिटरेरी प्राइज के लिए नामनिर्देशित किया गया था। सन 2007 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म श्री देकर सम्मानित किया था।

20 नवम्बर 2016 को मुंबई लिट्फेस्ट के टाटा लिटरेचर लाइव में घोष को लाइफटाइम अचीवमेंट के अवार्डसे सम्मानित किया गया था।

अमिताव घोष किताबें – Amitav Ghosh Books

दी सर्किल ऑफ़ रीज़न (1986)
दी शैडो लाइन्स (1988)
दी कलकत्ता क्रोमोजोम (1995)
दी ग्लास पैलेस (2000)
दी हंग्री टाइड (2004)
सी ऑफ़ पॉपिस (2008)
रिवर ऑफ़ स्मोक (2011)
फ्लड ऑफ़ फायर (2015)

गैर काल्पनिक:

इन एन एंटीक लैंड (1992)
डांसिंग इन कंबोडिया एंड एट लार्ज इन बर्मा (1998, निबंध)
काउंटडाउन (1999)
दी इमाम एंड दी इंडियन (2002, निबंध)
इंसीडीयरी सर्कमटंसेस (2006, निबंध)
“दी ग्रेट डेरागेंमेंट : क्लाइमेट चेंज एंड दी अनथिंकेबल” (2016)

You may like these posts

Post a Comment