-->

क्रिसमस का महत्व : कैसे हुई क्रिसमस की शुरुआत

Merry Christmas | आईये जानते है क्रिसमस का महत्व : कैसे हुई क्रिसमस की शुरुआत.

क्रिसमस या बड़ा दिन इसा मसीह या यीशु के जन्म की खुशी में मनाया जाने वाला पर्व है। यह 25 दिसम्बर को पड़ता है और इस दिन लगभग संपूर्ण विश्व मे अवकाश रहता है। क्रिसमस से 12 दिन के उत्सव क्रिसमसटाइड की भी शुरुआत होती है। एन्नो डोमिनी काल प्रणाली के आधार पर यीशु का जन्म, 7 से 2 ई.पू. के बीच हुआ था। 25 दिसम्बर यीशु मसीह के जन्म की कोई ज्ञात वास्तविक जन्म तिथि नहीं हैं और लगता है कि इस तिथि को एक रोमन पर्व या मकर संक्राति (शीत अयनांत) से संबंध स्थापित करने के आधार पर चुना गया है। आधुनिक क्रिसमस की छुट्टियों मे एक दूसरे को उपहार देना, चर्च मे समारोह और विभिन्न सजावट करना शामिल हैं। इस सजावट के प्रदर्शन मे क्रिसमस का पेड़, रंग बिरंगी रोशनियाँ, बंडा, जन्म के झाँकी और हॉली आदि शामिल हैं।

      
सांता क्लॉज़ 

सांता क्लॉज़

सांता क्लॉज़ को सेंट निकोलस, फादर क्रिसमस (क्रिसमस के जनक), क्रिस क्रिंगल, या सिर्फ "सांता " के नाम से जाना जाता है।पौराणिक और ऐतिहासिक दृष्टि से वे लोक कथाओं में प्रचलित एक व्यक्ति हैं। कई पश्चिमी संस्कृतियों में ऐसा माना जाता है कि सांता क्रिसमस की पूर्व संध्या, यानि 24 दिसम्बर की शाम या देर रात के समय के दौरान अच्छे बच्चों के घरों में आकर उन्हें उपहार देता है।सांता क्लॉज़ (जिसे क्रिसमस का पिता भी कहा जाता है हालाँकि, दोनों का मूल भिन्न है) क्रिसमस से जुड़ी एक लोकप्रिय पौराणिक परंतु कल्पित शख्सियत है जिसे अक्सर क्रिसमस पर बच्चों के लिए तोहफे लाने के साथ जोड़ा जाता है। सांता के आधुनिक स्वरूप के लिए मीडिया मुख्य रूप से उत्तरदायी है।

यीशु इसा मसीह 

ईसाइयो की यीशु के बारे में मान्यता 

ईसाइयों का यीशु के बारे में ये मान्यता है की "मसीहा" मरियम (virgin marry) के पुत्र क रूप में पैदा हुआ क्रिसमस की कहानी मैथ्यू की धर्मं शिक्षा (गोस्पेल ऑफ़ मैथ्यू) में दिए गए बाइबिल खातों पर आधारित है, और दी ल्यूक की धर्मं शिक्षा (गोस्पेल ऑफ़ लुके) , विशेषकर इसके अनुसार येशु मरियम कों उनके पति सेंट जोसेफ के मदद से बेतलेहेम में प्राप्त हुए थे लोकप्रिय परम्परा के अनुसार इनका जनम एक अस्तबल में हुआ था जो हर तरफ़ से कह्तिहर जानवरों से घिरा था। हलाकि न तो अस्तबल और न ही जानवरों का बाइबल में कोई जिक्र है हालांकि, एक "व्यवस्थापक" ल्यूक 2:7 में उल्लेखित है जहां यह कहा गया है की "वह कपड़ों में लिपटा हुआ और उसे एक चरनी में उसे रखा, क्योंकि वहाँ के सराय में उनके लिए कोई जगह नहीं थी।"पुरानी प्रतिमा विज्ञान ने, स्थिर और चरनी एक गुफा के भीतर स्थित थे (जो अभी भी चर्च बेतलेहेम में ईसाइयों के तहत मौजूद है) की पुष्टि की है. वहां के जानवरों को येशु के जनम के बारे में फरिश्ता ने बताया था अतः उन्होंने बच्चे को सबसे पहेले देखा ईसाइयो का मानना है की येशु के जनम यह कहा जाता है कि यह क्रिसमस सेंट जॉर्ज अराजकता को माना जाता था और अराजकता को सूर्य की दिव्यता और चंद्रमा ईथर को बनाने के लिए शाश्वत वापसी के हलकों का चक्र है ड्रैगन बच्चे का पारिवारिक पारिवारिक अवकाश बन गया था मैन वुमन और बच्चे और एंड्रोजेन-आर्कटाइप ने इनके जन से ७०० साल पहेले की गए भविष्यवाणी को सच कर दिया।

क्रिसमस से पूर्व की तैयारी 

क्रिसमस का पेड़ का महत्व  और अन्य सजावट

क्रिसमस का पेड़ को अक्सर बुतपरस्त परंपरा और अनुष्ठान के ईसाईता के रूप में जाना जाता है और तकालीन उच्चतम शिखर के आस पास सदा बहार टहनियों और बुतपरस्ती का एक रूपांतर पेड़ की पूजा ऐ पिसमे शामिल होती है अंग्रेजी भाषा में कहा जाने वाला वाक्यांश क्रिसमस ट्री सबसे फेले 1835 मे दर्ज किया गया और ये जर्मन भाषा के एक आयत का प्रतिनिधित्व करता है आज के युग का क्रिसमस ट्री का रिवाज़ मन जाता है की जर्मनी में 18वि शाताब्दी वैन रेंतेर्घेम, टोनी. जब सांता एक जादूगर था।सेंट पॉल: ल्लेवेल्ल्यं प्रकाशन, मार्टिन लुथेर ने 16 वीं शाताब्दी मे शुरू किया जर्मनी से इंग्लैंड में सबसे पहले इस प्रथा को रानी चर्लोत्ते, जॉर्ज III की पत्नी ने शुरू किया था पर इसे ज्यादा सफलतापूर्वक प्रिंस अलबर्ट ने विक्टोरिया के शासन में आगे बढाया. लगभग उसी समय, जर्मन आप्रवासी संयुक्त राज्य में यह प्रथा शुरू की. क्रिसमस पेड की सजावट रौशनी और क्रिसमस के गहने से भी होती है।

19 वीं सदी के बाद से पोंसेत्तिया क्रिसमस के साथ जोड़ा जाने लगा.अन्य लोकप्रिय छुट्टी के पौधों में शामिल हैं हॉली अमरबेल लाल, अमर्य्ल्लिस और क्रिसमस का कटीला पौधा. क्रिसमस के पेड के अतिरिक्त घरों के अन्दर दूसरे पौधों से भी सजाया जाता है जिसमे फूलों की माला और सदा बहार पत्ते. शामिल हैं।

ऑस्ट्रेलिया उत्तरी और दक्षिण अमेरिका और यूरोप का कुछ हिस्सा पारंपरिक रूप से सजाया जाता है जिसमे घर के बहार की बत्तियों से सजावट स्लेड (बेपहियों की गाड़ी), बर्फ का इंसान और अन्य क्रिसमस के मूरत शामिल होते हैं नगर पालिका भी अक्सर सजावट करते हैं क्रिसमस के पताका स्ट्रीट लाइट से टंगा होता है और शहर के हर वर्ग में क्रिसमस के पोधे रखे जाते हैं

पश्चिमी दुनिया में रंगीन कागजों पे धर्मनिरपेक्ष या धार्मिक क्रिसमस मोटिफ्स चप्पा हुआ कागज़ का रोल निर्मित करते हैं जिसमे लोग अपने उपहार लपेटेते हैं क्रिसमस गाँव का प्रदर्शन भी कई घरों में इस मौसम में एक परम्परा बन गया है। बाकी पारंपरिक सजावट में घंटी मोमबत्ती कैंडी केन्स]] बड़े मोजे पुष्पमालाएं और फ़रिश्ता शामिल होते हैं।

क्रिसमस की तयारी बारहवीं रात को उतारी जाती है जो 5 जनवरी की शाम का दिन होता हैं।

यह भी पढ़े - क्रिसमस से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

क्या आप जानते हैं कि पहले सांता क्लॉज को बच्चों को डराने के लिए एक सख्त मिजाज शख्सियत के तौर पर प्रयोग किया जाता था? क्या आप जानते हैं कि सन 2010 में कोलम्बियाई सरकार ने क्रिसमस पर एक कैम्पेन चला कर 331 आतंकवादियों को आतंक का रास्ता छोड़ने पर मजबूर कर दिया?

You may like these posts

Post a Comment